1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

स्विमिंग पूल में एक करोड़ डॉलर

ऑस्ट्रेलिया की अमीर खनन कारोबारी जिना राइनहार्ट देश के तैराकों को आगे बढ़ाने के लिए एक करोड़ डॉलर खर्च करेंगी. राइनहार्ट चाहती हैं कि ऑस्ट्रेलियाई तैराक अच्छा प्रदर्शन करें और इसके लिए उन्हें हर संभव मदद मिले.

लंदन ओलंपिक में ऑस्ट्रेलियाई तैराकों ने बहुत निराश किया. दो दशकों में यह पहला मौका रहा जब ऑस्ट्रेलियाई तैराक स्विमिंग पूल से ज्यादा पदक न निकाल सके. गुरुवार को स्विमिंग ऑस्ट्रेलिया के प्रमुख केविन नील ने इस्तीफा दे दिया. उनके इस्तीफे के बाद अरबपति जिना राइनहार्ट सामने आईं और उन्होंने कहा कि तैराकी को बढ़ावा देने के लिए वह अपना पैसा खर्च करेंगी.

राइनहार्ट जियोर्जिना होप फाउंडेशन की प्रमुख ने कहा, "फाउंडेशन स्थाई मदद, दलों को मदद, स्कॉलरशिप फंडिंग और प्रदर्शन के आधार पर आर्थिक मदद पर ध्यान केंद्रित करेगा." जनवरी 2013 से फाउंडेशन अच्छे तैराकों को हर तरह से वित्तीय मदद देगा. फ्री स्टाइल प्रतियोगिताओं में शारीरिक विकलांगता के बावजूद हुनर दिखाने वाले तैराकों को भी यह मदद दी जाएगी.

राइनहार्ट ने कहा, "इतिहास को देखें तो पता चलता है कि ओलंपिक, पैरालंपिक, वर्ल्ड चैंपियनशिप और कॉमनवेल्थ खेलों में ऑस्ट्रेलियाई तैराकों ने हैरान करने वाला प्रदर्शन किया है. फाउंडेशन इस बात का भरोसा बरकरार रखना चाहती है कि तैराकों को उच्चतम स्तर पर भाग लेने और उसके लिए ट्रेनिंग का हर मौका मिले."

फाउंडेशन ने यह भी तय किया है कि वह स्कूलों के प्रतिभाशाली तैराकों को भी तराशने में मदद करेगी. स्विमिंग ऑस्ट्रेलिया के अध्यक्ष बारक्ले नेटलफोल्ड के मुताबिक फाउंडेशन की वजह से उनकी धन जुटाने की समस्या खत्म हो गई है, अब उन्हें कोच और नए सदस्य जुटाने में काफी राहत मिलेगी.

इसी साल जुलाई-अगस्त में हुए लदंन ओलंपिक में ऑस्ट्रेलिया तैराकी में सिर्फ एक ही स्वर्ण पदक जीत सका. तैराकी के तालाब में वह छह रजत और तीन कांस्य पदक खोज पाया. 1992 के बार्सिलोना ओलंपिक के बाद लंदन में यह पहला मौका था जब ऑस्ट्रेलिया ने तैराकी में इतना कमजोर प्रदर्शन किया.

इस प्रदर्शन के बाद से ही स्विंमिंग ऑस्ट्रेलिया में मजाक और चुटकुलों का मुख्य विषय बन चुका है. आलोचनाओं के चलते इसी महीने संघ ने लंदन ओलंपिक के बुरे प्रदर्शन की समीक्षा भी शुरू कर दी है.

ओएसजे/एएम (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री