1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

स्पेन से अलग होने के हक में कैटेलोनिया

स्पेन से अलग होने के लिए कड़े विरोध के बावूजूद कैटेलोनिया में जनमत संग्रह कराया गया. कैटेलोनिया के प्रधानमंत्री कार्लेस पुइडिमोंट ने कहा कि 90 प्रतिशत लोगों ने जमनत संग्रह में स्पेन से अलग होने के लिए वोट किया है.

कैटेलोनिया में जनमत संग्रह के बाद प्रधानमंत्री कार्लेस पुइडिमोंट ने कहा कि कैटेलोनिया ने स्वतंत्र राज्य होने का अधिकार प्राप्त कर लिया है. वह इस जनमत संग्रह का परिणाम कैटेलोनिया की संसद में भेजेंगे. उन्होंने यह भी कहा कि कैटेलोनिया को स्पेन से अलग होने का अधिकार मिल गया है. कैटेलोनिया के एक स्थानीय अखबार के मुताबिक पुइडिमोंट आने वाले दिनों में संसद में एकतरफा स्वतंत्रता की घोषणा करेंगे.

कैटेलोनिया की सरकार के मुताबिक इस जनमत संग्रह के दौरान 844 नागरिक चोटिल हुये. पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच हिंसक झड़प हुई, जिसमें 33 पुलिस अधिकारियों के अलावा कई स्थानीय लोग घंभीर रूप से घायल हुये. वहीं स्पेन की संवैधानिक अदालत ने इस जनमत संग्रह को अवैध करार दिया है.

रविवार को मतदान समाप्त होने के बाद, कैटेलोनिया सरकार के एक प्रवक्ता जोर्डी टुरुल ने बताया कि लगभग 22 लाख मतों की गणना की गई, जिसमें करीब 20 लाख मत स्पेन से अलग होने के पक्ष में हैं. उन्होंने यह भी कहा कि अधिकारियों के मुताबिक जनमत संग्रह को लेकर हुए. टुरुल ने दावा किया, "पोलिंग स्टेशनों की तरह इस्तेमाल किये गये 400 सील कर लिये गये थे और बहुत से वोट सीधे तौर पर चुरा लिये गये थे." 

इस जनमत संग्रह को लेकर बार्सिनोला की मेयर ऐडा कोलाओ ने स्पेन के प्रधानमंत्री मारियानो राखोय का इस्तीफा मांगा. उन्होंने कहा कि इस जनमत संग्रह को रोकने के लिए पुलिस लोगों के साथ बुरी तरह मारपीट करते हुए दिखी.  

कोलाओ ने कहा, "रोखोय एक कायर हैं, जो अदालतों के पीछे छिपे हैं. अपने मौलिक अधिकारों का बचाव कर रहे आम लोगों, बूढ़ों और परिवारों के खिलाफ उन्होंने पुलिसिया कार्यवाही करवा कर सारी सीमा पार कर दी है." इससे पहले मैड्रिड में, सरकार के विरोधियों ने भी इकट्ठा होकर कैटेलोनिया के लिए सहमति जताई थी. उन्होंने कहा था, "मैड्रिड के कैटलोनिया के लोगों के साथ हैं".

हालांकि, स्पेन से इस जनमत संग्रह को को शुरू से असंवैधानिक बताकर खारिज किया था. केंद्र सरकार ने जनमत संग्रह को आगे बढ़ने से रोकने के लिए पुलिस को आदेश भी दिये थे.

इस जनमत संग्रह से कुछ समय पहले बार्सिलोना शहर में लाखों लोगों ने कैटेलोनिया को स्पेन से आजाद करने की मांग करते हुए मार्च किया था. इस प्रदर्शन में स्पेन के मशहूर फुटबॉल खिलाड़ी गेरार्ड पिके और मैनचेस्टर सिटी टीम के मैनेजर पेप गुआर्डियोला भी शामिल थे. पुलिस का अंदाजा था कि स्वतंत्रता के समर्थन में हुए इस प्रदर्शन में करीब दस लाख लोग शामिल हुए थे. प्रदर्शनकारियों ने "आजादी, आजादी" और "हम वोट देंगे" के नारे लगाए थे.

कैटेलोनिया में बहुत से लोगों का मानना है कि स्पेन में उनके साथ भेदभाव हो रहा है और इलाके से कमाया गया ज्यादातर टैक्स स्पेन के बाकी इलाकों में बांट दिया जाता है. कैटेलोनिया स्पेन के उत्तरी हिस्से में है और यहां करीब 76 लाख लोग रहते हैं. बार्सिलोना इसकी राजधानी है.

एसएस/ओएसजे (एएफपी, डीपीए, रॉयटर्स, एपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री