1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

स्पेन ने कैटेलोनिया को दिया एक और मौका

स्पेन सरकार ने कैटेलोनिया ने नेता पुजदेमोन को एक और मौका दिया है. अब तय की गई नई सीमा के भीतर कैटेलोनिया को बताना होगा कि स्वतंत्रता की घोषणा को लेकर उनका क्या पक्ष है.

स्पेन के उप प्रधानमंत्री सोराया साएंज डी सांतामारिया ने सोमवार को कैटेलोनिया के नेता पुजदेमोन की प्रधानमंत्री राखोय से सीधी बातचीत के प्रस्ताव को खारिज कर दिया. साथ ही उप प्रधानमंत्री ने कैटेलोनिया को स्वतंत्रता की मांग छो़ड़ने के लिए तीन दिन का वक्त दिया. उन्होंने पत्रकारों से कहा कि केंद्र सरकार को पुजदेमोन से हां या नहीं में एक स्पष्ट जवाब चाहिए था. पुजदेमोन को एक सीधा साफ जवाब देना था कि उन्होंने स्पेन से अलग होने की घोषणा की या नहीं की और वे अपना जवाब देने में असमर्थ रहे हैं.

16 अक्टूबर की पिछली समय सीमा से पहले पुजदेमोन ने स्पेन के प्रधामंत्री राखोय को एक पत्र लिखा था. इस पत्र में उन्होंने यह साफ नहीं किया था कि उन्होंने कैटेलोनिया में स्पेन से अलग होने की घोषणा की है कि नहीं. इस पत्र में उन्होंने बातचीत के जरिए इस मुद्दे को सुलझाने के लिए 2 महीने का वक्त मांगा था. 

अब आगे क्या

संभावना है कि राखोय आकस्मिक चुनाव की घोषणा करेंगे. संविधान के अनुच्छेद 155 के तहत उन्हें यह अधिकार है कि वह कैटेलोनिया की सरकार को बर्खास्त कर सकते हैं. उन्होंने कहा था कि कैटेलोनिया सरकार के पास 16 अक्टूबर तक का वक्त है. अगर कैटेलोनिया के नेता यह स्पष्ट करते हैं कि उन्होंने आजादी की घोषणा कर दी है तो उन्हें तीन दिन का समय और मिलेगा. 19 अक्टूबर तक उन्हें अपनी मांग को बदलना होगा वरना अनुच्छेद 155 लागू किया जायेगा. कही हुई बात के अनुसार कैटेलोनिया को 19 अक्टूबर तक का वक्त दिया गया है.

विश्लेषकों का कहना है कि अभी तक यह साफ नहीं है कि कैटेलोनिया की सरकार स्पेन की सरकार का जवाब देगी या नहीं लेकिन यह साफ है कैटेलोनिया की सरकार फिलहाल एक बड़ी समस्या में फंस गई है. अगर पुजदेमोन कहते हैं कि उन्होंने आजादी की घोषणा की थी तो केंद्र सरकार स्थिति में दखल देगी. अगर वे कहते हैं कि उन्होंने आजादी की घोषणा नहीं की तो धुर वामपंथी पार्टी सीयूपी अल्पसंख्यक मत वाली सरकार से अपना समर्थन वापस ले लेगी.

एसएस/ओएसजे (रॉयटर्स, एपी, एएफपी, डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री