1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

स्पेन के खिलाफ कैटेलोनिया में फिर हो सकता है बड़ा आंदोलन

कैटेलोनिया की एक धुर वामपंथी पार्टी ने चेतावनी दी है कि अगर स्पेन स्थानीय सरकार को निलंबित करता है तो उसे एक बड़े अवज्ञा आंदोलन का सामना करना होगा.

कैटेलोनिया की लोकप्रिय सीयूपी पार्टी ने कैटेलोनिया की सरकार को निलंबित करने की स्पेन की योजना को तानाशाही के दौर के बाद अब तक का सबसे बड़ा अतिक्रमण बताया है. अलगाववादी नेताओं जोर्डी सांचेज और जोर्डी क्युजिआर्ट के समर्थन में बार्सिलोना की सड़कों पर लगभग पांच लाख लोग उतरे. दोनों नेताओं पर देशद्रोह के आरोप में जांच चल रही है. पार्टी ने अपने एक बयान में कहा, "यह अतिक्रमण एक बड़े अवज्ञा आंदोलन का सामना करेगा."

स्पेन के प्रधानमंत्री मारियानो राखोय ने यह घोषणा की थी कि स्पेन कैटेलोनिया के नेता पुजदेमोन और उनके कार्यकारी अधिकारों को निलंबित कर देंगे. राखोय की इस घोषणा के बाद प्रदर्शनकारी बार्सिलोना की सड़कों पर उतरे.

राखोय ने कहा कि कैटेलोनिया को स्पेन से अलग होने से रोकने के लिए स्पेन मजबूत उपायों के तहत मंत्रालयों पर नियंत्रण करेगा. सीयूपी कैटेलोनिया की संसद में सत्तारूढ़ अलगाववादी गठबंधन का एक महत्वपूर्ण सहयोगी है. पार्टी का कहना है कि इस आंदोलन की घोषणा जल्द ही की जायेगी.

क्या होगा अगला कदम?

कैटेलोनिया की पार्टियां संसद में बैठक की तैयारी कर रही हैं, जहां यह तय होना है कि कैटेलोनिया का अगला कदम क्या होगा. इस बात की भी संभावना जताई जा रही है कि इस बैठक में कैटेलोनिया की एकतरफा स्वतंत्रता की घोषणा कर दी जाये. कैटेलोनिया ने स्पेन से अलग होने को लेकर किये गये जनमत संग्रह(1 अक्टूबर) के बाद से इस घोषणा को रोक रखा था.

हालांकि चुनावों से संकेत मिलता है कि स्पेन से अलग होने पर कैटेलोनिया बंटा हुआ है. फिर भी लगभग 80 लाख लोगों के पूर्वोत्तर क्षेत्र में स्वायत्तता एक संवेदनशील मुद्दा है. कैटेलोनिया मजबूती से अपनी भाषा और संस्कृति का बचाव करता है और पहले उसे अपने पुलिस, शिक्षा और स्वास्थ्य देखभाल पर नियंत्रण हासिल कर लिया था. हालांकि फ्रांसिस्को फ्रैंको ने 1939 से 1975 के बीच कैटेलोनिया की भाषा के आधिकारिक उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया.

एसएस/एनआर (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री