1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

स्पेनी साइक्लिस्ट: पाकिस्तानी दावा झूठा

स्पेनी साइक्लिस्ट ने पाकिस्तान के उस दावे को झूठ बताया है कि साइक्लिस्ट की सुरक्षा में उसके छह जवान मारे गए. पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत से पिछले दिनों गुजर रहे स्पेन के इस साइक्लिस्ट पर हमले की बात सामने आई थी.

पाकिस्तानी प्रांत बलूचिस्तान देश के सबसे खतरनाक इलाकों में से एक माना जाता है, जहां से यह साइक्लिस्ट 22 जनवरी को गुजर रहा था. साइकलिस्ट खावियर कोलोराडो के चेहरे पर दाढ़ी है. घटना के बाद पाकिस्तान पुलिस ने कहा था कि जब वह ईरान से आ रहे थे तो इस इलाके में हमलावरों ने हमला कर दिया.

कोलोराडो ने अपने फेसबुक अकाउंट, ब्लॉग और यूट्यूब पर वीडियो डालकर कहा कि पाकिस्तान के कबायली पुलिसकर्मियों की मौत से मेरे साथ हुई घटना का कोई लेना देना नहीं, जब हमलावरों ने उन पर गोलियां चलाईं. पाकिस्तान ने घटना के फौरन बाद ही कहा था कि स्पेनी साइक्लिस्ट की सुरक्षा में इलाके में तैनात छह पुलिसकर्मी हादसे में मारे गए. जहां घटना हुई वह जगह क्वेटा से 55 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है. यह इलाका इस्लामी चरमपंथियों, सांप्रादायिक खून खराबे और अलगाववाद से जुड़ी हिंसा के लिए सुर्खियों में बना रहता है.

स्पेन की मीडिया के अनुसार 27 वर्षीय कोलोराडो ने कहा कि मारे गए छह पुलिसकर्मी असल में एक दिन पहले एक अन्य हादसे का शिकार हुए. इस हादसे में उसी रास्ते पर जा रही शिया मुसलमानों की बस पर हमला हुआ था जिसमें 24 शिया मारे गए थे. कोलोराडो ने बताया जिस समय उन्हें पुलिसकर्मी एक पिकअप वैन में उनकी साइकिल और दूसरे सामान के साथ ले जा रहे थे तो उन्होंने रास्ते में बस में धमाका होते देखा.

यूट्यूब पर कोलोराडो ने जो वीडियो डाला है उसमें पुलिस वैन से थोड़ी दूरी पर ही आग का बड़ा सा गोला दिखाई दे रहा है. धमाके के बाद घबराए हुए कोलोराडो पुलिस वैन के पास ही पत्थर के पीछे छुपते दिखाई दे रहे हैं. पास की ही पुलिस चौकी में रात बिताने के बाद एक ड्राइवर और सशस्त्र पुलिसकर्मी के साथ एक वैन में उनकी यात्रा फिर शुरू हुई. वीडियो में आगे पुलिस चौकी में जमीन पर लेटे हुए कोलोराडो यह कहते हुए दिखाई देते हैं, "उन्होंने हम पर गोली चलाई. हमारे खून निकल रहा है."

धमाके की लपटों से उन्हें भी चोट आई थी. उनका पहले पास के एक क्लीनिक में और फिर क्वेटा के सैन्य अस्पताल में इलाज किया गया. कोलोराडो मे कहा वह पाकिस्तान ट्रेन से पार करने वाले थे. लेकिन बॉर्डर पर पहुंचने में देर हो गई और उनसे वह ट्रेन छूट गई जो महीने में एक बार ही ईरान से चलती है. इसके बाद उन्होंने साइकिल पर ही आगे बढ़ना शुरू कर दिया. उन्होंने बताया पाकिस्तानी पुलिस ने उन्हें सुझाव दिया कि बस से सफर करना सुरक्षित नहीं है. और अधिकारी उन्हें और उनकी साइकिल को पुलिस चौकी ले गए.

हादसे के समय पाकिस्तानी पुलिस ने कहा था कि जब साइक्लिस्ट ईरान से पाकिस्तान में घुसा तो उस पर बंदूकधारियों ने हमला कर दिया. उन्होंने यह भी कहा था कि उसकी सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों में से छह जवाबी कार्रवाई में मारे गए और पांच बुरी तरह जख्मी हो गए. इस घटना में एक हमलावर के मरने की बात भी कही गई थी.

एसएफ/एमजे (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री