1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

स्टीव वॉ को साथ लाना चाहती है टीम कोच्चि

आईपीएल की नई टीम कोच्चि ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान और बेहतरीन क्रिकेटर स्टीव वॉ को साथ जोड़ना चाहती है. विवादों के साथ शुरू हुई कोच्चि की टीम उन्हें विशेष सलाहकार बनाना चाहती है. वॉ से संपर्क किया गया है.

default

बेहतरीन क्रिकेटर स्टीव वॉ

पूर्व विदेश राज्यमंत्री शशि थरूर की वजह से कोच्चि टीम आईपीएल का एक भी मैच खेले बगैर सुर्खियों में है और इसके हर कदम पर लोगों की नजर लगी हुई है. कोच्चि के चेयरमैन हर्षद मेहता ने वॉ से संपर्क किया है. दुबई से प्रकाशित अखबार 'द नेशन' ने रिपोर्ट दी है कि दोनों में बातचीत काफी बढ़ चुकी है. अगले साल से आईपीएल में 10 टीमें होंगी और कोच्चि उनमें से एक है.

मेहता ने अखबार को बताया, "हम स्टीव वॉ को टीम का हिस्सा बनाना चाह रहे हैं. वॉ को टीम में उच्च स्तरीय जगह दी जाएगी और उनके नीचे दो स्तर पर लोग काम करेंगे." मेहता ने बताया कि इसके अलावा श्रीलंका के बल्लेबाज महेला जयवर्धने को भी टीम से जोड़ने की कोशिश की जा रही है. हाल के दिनों में महेला ने बेहतरीन बल्लेबाजी की है और फिलहाल वह आईपीएल की पंजाब टीम के साथ जुड़े हैं.

Shantakumaran Sreesanth

श्रीसंत हो सकते हैं टीम में

मेहता ने कहा, "मैं निजी तौर पर महेला को बेहद पसंद करता हूं और उनके साथ मेरे बहुत अच्छे रिश्ते हैं. मैं पहला शख्स था, जिसने उन्हें श्रीलंका से बाहर दक्षिण अफ्रीका में क्रिकेट खेलाया. हम दोनों का रिश्ता 20 साल से ज्यादा पुराना है. अगर वह उपलब्ध रहे और मैं बोली लगाने में कामयाब रहा, तो वह कोच्चि टीम के हिस्सा बन सकते हैं."

उन्होंने बताया कि केरल के एस श्रीसंत कमोबेश कोच्चि टीम के साथ जुड़ने के लिए तैयार हैं. मेहता ने कहा कि वह बेहतरीन गेंदबाज हैं लेकिन बहुत अनुभवी नहीं हैं. इस टीम का नाम, इसके मैनेजर और टीमों के बारे में जानकारी इस महीने के आखिर तक आ जाएगी.

कोच्चि टीम को लेकर भारत के पूर्व विदेश राज्यमंत्री शशि थरूर बेहद चर्चा में रहे थे. उन पर आरोप थे कि वह किसी न किसी तरह टीम से जुड़े हैं, जिससे उन्होंने इनकार किया था. लेकिन विवाद इतना बढ़ा कि उन्हें पद से इस्तीफा देना पड़ा. आईपीएल के पूर्व कमिश्नर ललित मोदी की मुश्किलें भी कोच्चि टीम का विवाद शुरू होने के बाद ही बढ़ीं.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए जमाल

संबंधित सामग्री