1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

स्टार कलाकारों की फ्लॉप डेब्यू

बॉलीवुड में इतने स्टार बच्चे आने लगे हैं कि उनकी तुलना अक्सर उनके स्टार माता पिता से की जाती है. पहली फिल्म अगर हिट ना हो, तो उनकी काफी आलोचना होती है. मजेदार बात यह है कि उनके स्टार माता पिता भी शुरू में फ्लॉप ही थे.

स्टार कलाकारों की अगर सूची बनाई जाए और देखा जाए कि अपनी पहली फिल्म में कौन कौन बुरी तरह फ्लॉप रहा, तो लिस्ट काफी लंबी बनेगी. इनमें शो मैन राजकपूर, एवर ग्रीन देवानंद, शशि कपूर, सुपर स्टार राजेश खन्ना, महानायक अमिताभ बच्चन, जुबली कुमार राजेंद्र कुमार, भारत कुमार मनोज कुमार, संवाद अदायगी के बेताज बादशाह राज कुमार, हीमैन धर्मेंद्र, सुनील दत्त, फिरोज खान, अनिल कपूर, बलराज साहनी, अनुपम खेर, सुरेश ओबेराय, पंकज कपूर, अमजद खान और अजित समेत कई सितारे शामिल हैं.

कपूर खानदान

ऋषि कपूर, रणधीर कपूर और राजीव कपूर के पिता राजकपूर ने 1947 में फिल्म 'नीलकमल' से अपने करियर का आगाज किया. यह फिल्म टिकट खिड़की पर कोई करिश्मा नहीं दिखा पाई. इसी तरह कुणाल कपूर, करण कपूर और संजना कपूर के पिता शशि कपूर ने 1961 में फिल्म 'धर्मपुत्र' के जरिए बॉलीवुड में कदम रखा और यह फिल्म असफल रही.

सुनील आनंद के पिता एवरग्रीन देवानंद ने अपने करियर की शुरूआत 1946 में फिल्म 'हम एक हैं' से की थी. यह फिल्म टिकट खिड़की पर ढ़ेर हो गई थी. इसी तरह टि्वंकल खन्ना और रिंकी खन्ना के पिता और बॉलीवुड के पहले सुपर स्टार राजेश खन्ना ने 1966 में फिल्म 'आखिरी खत' से बॉलीवुड का रुख किया. इस फिल्म को भी कामयाबी नहीं मिली थी.

फ्लॉप कुमार

अभिषेक बच्चन के पिता महानायक अमिताभ बच्चन ने ख्वाजा अहमद अब्बास की फिल्म 'सात हिंदुस्तानी' से इंडस्ट्री में कदम रखा लेकिन उनकी भी फिल्म टिकट खिड़की पर बेअसर साबित हुई. कुमार गौरव के पिता और फिल्म इंडस्ट्री में जुबली फिल्मों की बरसात करने वाले राजेंद्र कुमार ने 1950 में फिल्म 'जोगन' में पहली बार काम किया. फिल्म में दिलीप कुमार की भी अहम भूमिका थी लेकिन फिल्म बॉक्स ऑफिस पर पिट गई.

देश प्रेम की भावना से ओतप्रोत फिल्में बनाने के लिए मशहूर मनोज कुमार ने अपने करियर की शुरूआत 1957 में फिल्म 'फैशन' से की, लेकिन इस फिल्म के जरिए वह दर्शकों के बीच अपनी पहचान बनाने में विफल रहे. इसी तरह पुरू राजकुमार के पिता राजकुमार ने 1952 मे प्रदर्शित फिल्म 'रंगीली' में एक छोटी सी भूमिका से अपनी पारी शुरू की लेकिन उन्हें भी कामयाबी नहीं मिली.

नहीं चले स्टाइल आइकॉन

सन्नी देओल और बॉबी देओल के पिता हीमैन धमेंद्र ने अपने करियर की शुरूआत 1960 में निर्माता निर्देशक अर्जु्न हिंगोरानी की फिल्म 'दिल भी तेरा हम भी तेरे' से की थी. पर उन्हें भी दर्शकों का प्यार नसीब नहीं हुआ. संजय दत्त के पिता सुनील दत्त ने अपने सिने करियर की शुरूआत 1955 में फिल्म 'रेलवे प्लैटफॉर्म' से की. उनकी भी फिल्म टिकट खिड़की पर नकार दी गयी थी.

सोनम कपूर के पिता अनिल कपूर की पहली फिल्म थी 1979 में 'हमारे तुम्हारे'. कमजोर पटकथा और निर्देशन के कारण फिल्म बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह से नकार दी गयी. फरदीन खान के पिता और बॉलीवुड के स्टाइल आइकॉन माने जाने वाले फिरोज खान ने अभिनेता के तौर पर अपने करियर की शुरूआत 1960 में फिल्म 'दीदी' से की, लेकिन इस फिल्म से अपनी पहचान नहीं बना सके.

DW.COM

संबंधित सामग्री