1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

सोनी ने सदाबहार वॉकमैन को अलविदा कहा

दिग्गज इलेक्ट्रॉनिक कंपनी सोनी ने वॉकमैन का उत्पादन बंद करने का एलान किया है. 1979 में पहली बार वॉकमैन बनाकर दुनिया भर में संगीत क्रांति ला देने वाली कंपनी सोनी के मुताबिक बड़ा वाला वॉकमैन अब दम तोड़ चुका है.

default

वॉकमैन में दो पेंसिल सेल डाले, कान में हेडफोन लगाया और झूमते हुए चल दिए. दुनिया भर के करोड़ों लोगों ने किशोरावस्था से जवानी की दहलीज पर ऐसे ही कदम रखा है. वॉकमैन लगाकर चलना स्टाइल और जवानी की प्रतीक हुआ करता था.

Walkman

पहली जुलाई 1979 को सोनी ने पहला वॉकमैन बाजार में उतारा. तब से करीब 2002 तक वॉकमैन ने ही दुनिया पर राज किया. लेकिन अब जमाना बदल चुका है. एमपी 3 प्लेयर, मोबाइल फोन और आइपॉड जैसी मशीनों ने वॉकमैन और उसकी कैसेट को कूड़ेदान की तरफ सरका दिया है.

सोनी ने वॉकमैन को बचाने की काफी कोशिशें की. कैसेट की जगह सीडी और फिर वीसीडी वाला वॉकमैन उतार दिया. लेकिन पेन ड्राइव या यूएसबी ड्राइव सीडी और वीसीडी पर भी भारी पड़ा. ज्यादा मेमोरी वाले पेन ड्राइव, एमपी 3 और आइपॉड ने सीडी से मुक्ति दिला दी. वॉकमैन के साथ लगातार होने वाले खर्च की भी बनी रही. पहले वॉकमैन खरीदा, फिर कैसेट या सीडी खरीदते रहो. एमपी3 और आइपॉड के साथ ऐसा नहीं हैं. बैटरी बैकअप के मामले भी बड़े आकार वाला वॉकमैन हांफ गया.

Sony Walkman von 2005

यही वजह है कि सोनी ने भी अपने 31 साल पुराने आविष्कार को अलविदा कहने का एलान कर दिया है. दुनिया का पहला वॉकमैन टीपीएस-एल 2 बनाने वाली कंपनी सोनी के मुताबिक वॉकमैन अब मर चुका है. जापान में सोनी अब वॉकमैन नहीं बनाएगी. हालांकि कंपनी चीन, यूरोप और कुछ अन्य एशियाई देशों में डिजिटल वॉकमैन बनाएगी. डिजिटल वॉकमैन बेहद छोटा है. इसमें गाने के बोल पढ़े भी जा सकेगें. सोनी का कहना है कि डिजीटल वॉकमैन की साउंड क्वालिटी काफी बेहतर है. डिजी वॉकमैन में आस पास की आवाज की कम करने की क्षमता है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/ओ सिंह

संपादन: आभा एम