1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

सोनाक्षी के साथ रोमांस चुनौती थी: रजनीकांत

दक्षिण भारतीय फिल्मों के महानायक रजनीकांत का कहना है कि फिल्म लिंगा में सोनाक्षी सिन्हा के साथ रोमांस करना उनके लिए बहुत बड़ी चुनौती थी.

रजनीकांत ने तमिल फिल्म लिंगा में सोनाक्षी सिन्हा के अपोजिट काम किया है. के एस रवि कुमार के निर्देशन में बनी इस फिल्म में रजनीकांत ने दोहरी भूमिका निभायी है. लिंगा रजनीकांत के जन्मदिन के अवसर पर 12 दिसंबर को रिलीज हो रही है. रजनीकांत ने कहा कि लिंगा में उम्र में उनसे बहुत छोटी अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा के साथ रोमांस करना उनके लिए एक चुनौती थी. रजनीकांत ने कहा कि उन्हें जितनी घबराहट सोनाक्षी के साथ युगल गीत की शूटिंग करते समय हुई उतनी तो पहली बार कैमरे का सामना करते समय भी नहीं हुई थी. रजनीकांत के मुताबिक, "भगवान मेरे जैसे 60 वर्षीय अभिनेताओं को जो सबसे बड़ी सजा दे सकता है वो है युगल गीत गाना. मुझे सोनाक्षी के साथ युगल गीत की शूटिंग करना चलती ट्रेन पर स्टंट करने से भी ज्यादा मुश्किल लगा. मैं सोनाक्षी को उसके बचपन से जानता हूं और वह मेरी बेटियों के साथ बड़ी हुई है."

दक्षिण भारतीय फिल्म करियर

अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा का कहना है कि नई फिल्म लिंगा उनके करियर की आखिरी दक्षिण भारतीय फिल्म नहीं होगी. सलमान खान के साथ दबंग में अपने फिल्मी करियर की शुरुआत करने वाली सोनाक्षी सिन्हा तमिल फिल्म लिंगा से दक्षिण भारतीय फिल्मों में कदम रख रही है.

सोनाक्षी कहती हैं कि यह फिल्म उनके करियर की पहली और आखिरी तमिल फिल्म नहीं होगी क्योंकि वह यहां आगे भी काम करने की इच्छुक हैं. सोनाक्षी ने कहा, "मैं अच्छी कहानी मिलने पर दक्षिण की और भी फिल्मों में काम करना चाहूंगी. विषय सामग्री के लिहाज से दक्षिण सिनेजगत समृद्ध है और यही वजह है कि बॉलीवुड में उनकी कई फिल्मों के रीमेक बने हैं. मैं यकीनन लिंगा से दक्षिण भारतीय फिल्म जगत में अपना करियर समाप्त नहीं करना चाहती."

सोनाक्षी ने अपने करियर की चार फिल्में दक्षिण भारतीय फिल्मकार ए आर मुरूगादोस और प्रभुदेवा के साथ की हैं. वह कहती हैं, "मेरे ख्याल से मैं इतनी सारी दक्षिण भारतीय फिल्मों के रीमेक में काम कर चुकी हूं कि इस बात से वाकिफ हो गई हूं कि यहां किस तरह काम होता है. मेरे लिए एकमात्र चुनौती उस भाषा को बोलना या उसमें स्वाभाविक दिखना है जो मैं बोल और समझ नहीं सकती."

एए/एमजे (वार्ता)

DW.COM

संबंधित सामग्री