1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

सोची में नहीं लहराएगा तिरंगा

भारतीय ओलंपिक संघ के ढुलमुल रवैये के कारण सोची विंटर ओलंपिक में भारतीय ध्वज नहीं लहरा पाएगा. भारत के तीन खिलाड़ी सोची में हिस्सा तो लेंगे लेकिन ओलंपिक झंडे के तले.

सोची ओलंपिक के लिए तीन भारतीय खिलाड़ी क्वालिफाई कर पाए हैं. ये तीनों स्वतंत्र एथलीट के तौर पर हिस्सा लेंगे, वे किसी राष्ट्र का प्रतिनिधित्व नहीं करेंगे. अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक संघ ने भारतीय ओलंपिक संघ को निलंबित कर दिया है, जिसकी वजह से ये तीनों खिलाड़ी सोची खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व नहीं कर पाएंगे.

रूस के सोची शहर में सात फरवरी से शीत ओलंपिक होने जा रहा है. अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति, आईओसी ने एक साल पहले भारत की सदस्यता निलंबित की थी जब राष्ट्रीय समिति में दागी उम्मीदवार अहम पद पर चुने गए. इनमें भारतीय ओलंपिक संघ के महासचिव ललित भनोट भी हैं, जिन पर 2010 के कॉमनवेल्थ खेलों में भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे.

भनोट जेल की सजा भी काट चुके हैं. अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति ने पिछले महीने कहा था कि अगर भारतीय ओलंपिक संघ दोबारा चुनाव करा लेता है तो वह प्रतिबंध हटा लेगी. लेकिन भारतीय संघ ने सोची ओलंपिक के शुरू होने के दो दिन बाद यानी नौ फरवरी को चुनाव कराने का फैसला किया है.

Shiva Keshavan

केशवन ल्यूज दौड़ में भारत के विश्वस्तरीय खिलाड़ी हैं

अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति ने एक बयान में कहा, "दिसंबर में कार्यकारी बोर्ड के फैसले के बाद आईओसी सोची में क्वालिफाई करने वाले सभी भारतीय खिलाड़ियों के लिए जरूरी इंतजाम करेगी जो बतौर स्वतंत्र खिलाड़ी ओलंपिक ध्वज के अधीन हिस्सा ले रहे हैं."

तीन भारतीय खिलाड़ियों में 32 साल के शिव केशवन भी शामिल हैं. केशवन ल्यूज रेस में हिस्सा लेंगे. यह उनका पांचवां विंटर ओलंपिक होगा. इस फैसले के बाद केशवन ने मीडिया से कहा यह "शर्मनाक और दयनीय है." केशवन कहते हैं, "पूरी दुनिया को हमारे सिस्टम की विफलता, भ्रष्टाचार और खेलों में खराब प्रशासन के बारे में पता है."

आईओसी के दबाव के बाद पिछले साल दिसंबर में भारतीय ओलंपिक संघ ने आपसी सहमति से संविधान में बदलाव लाने, सभी दागी अधिकारियों को बाहर करने और फिर से चुनाव कराने का फैसला किया था. अगर भारत आईओसी का पालन नहीं करता तो वह ओलंपिक से निष्कासित हो जाता. दक्षिण अफ्रीका के बाद भारत ओलंपिक से निष्कासित होने वाला पहला देश बन जाता. 40 साल पहले दक्षिण अफ्रीका को ओलंपिक से बाहर का रास्ता दिखाया गया था. आईओसी पिछले खेलों में खिलाड़ियों के लिए ओलंपिक ध्वज के अधीन भाग लेने का प्रावधान कर चुका है. दक्षिण सूडान के मैराथन रनर गुआर मारियल 2012 के लंदन ओलंपिक खेलों में स्वतंत्र खिलाड़ी के तौर पर हिस्सा ले चुके हैं. साल 2000 में हुए सिडनी ओलंपिक में पूर्वी तिमूर के खिलाड़ियों ने ओलंपिक ध्वज के अधीन हिस्सा लिया था.

एए/एजेए (एपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री