1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

सोची में डोपिंग पर बेहद सख्ती

प्रतिबंधित दवाओं की जांच इस बार के विंटर ओलंपिक में सबसे ज्यादा सख्त होगी. अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक संघ के नए प्रमुख ने बुधवार को यह जानकारी दी. एथलीटों को मुकाबले से पहले 1269 टेस्टों का सामना करना पड़ सकता है.

वैंकूवर में हुए पिछले विंटर ओलंपिक के दौरान इससे 400 कम टेस्ट किए गए. सारे टेस्ट अगर मिला दिए जाएं तो इनकी संख्या 2,453 हो जाएगी जो पिछली बार की तुलना में करीब 300 ज्यादा है. अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक संघ के अध्यक्ष थॉमस बाख ने जोहानिसबर्ग में खेलों में डोपिंग पर हुई अंतरराष्ट्रीय कांफ्रेंस के दौरान कहा, "पिछले विंटर ओलंपिक की तुलना में हम इस बार ज्यादा सख्त और चौकस रहेंगे."

कांफ्रेंस में शामिल होने दुनिया भर से खेल प्रतिनिधि आए. बाख ने इसी साल सितंबर में ओलंपिक संघ के प्रमुख रहे याक रोगे की जगह संभाली है. उन्होंने डोपिंग में पकड़े जाने वाले खिलाड़ियों पर ज्यादा सख्त प्रतिबंध लगाने का समर्थन किया है, "हमें जितना अधिक संभव हो सख्त होने की जरूरत है. मैंने बहुत मजबूती से आजीवन प्रतिबंध की दलील दी है, यहां तक कि पहले डोपिंग अपराध के लिए भी."

बाख ने सम्मेलन में आए सभी प्रतिनिधियों से आग्रह किया कि वे डोपिंग रोकने के नियमों को ज्यादा कड़ी सजाओं से जोड़ें. दुनिया भर के खेल नेता इस हफ्ते डोपिंग के नए नियमों पर सहमति की मुहर लगा देंगे, जिसमें अंतरराट्रीय डोपिंग के गुनहगारों की सजा दोगुनी कर दी गई है. पहले इसके लिए दो साल का प्रतिबंध लगाया जाता था लेकिन अब इसे चार साल कर दिया गया है. इससे खिलाड़ियों पर स्वाभाविक रूप से अगले ओलंपिक में शामिल होने पर प्रतिबंध लग जाएगा. इस उपाय से अंतरराष्ट्रीय खेल अदालत में एक और मामला जाने से बच जाएगा. अंतरराष्ट्रीय खेल अदालत ने 2011 में अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक संघ के ऐसे ही एक प्रतिबंध को खारिज कर दिया था.

2008 में ओलंपिक संघ ने उन एथलीटों के अगले ओलंपिक में शामिल होने पर पाबंदी लगा दी थी जिन पर छह महीने या उससे ज्यादा का प्रतिबंध लगा हो. चाहे वे निलंबन की मीयाद पूरी कर चुके हों तो भी. अंतरराष्ट्रीय खेल अदालत को लगा कि इस नियम के कारण डोपिंग के विरुद्ध तय नियमों का उल्लंघन हुआ है. 2008 ओलंपिक में 200 मीटर के चैम्पियन ले शॉन मेरिट को पिछले साल लंदन के खेलों में शामिल होने दिया गया. उन पर 21 महीने का प्रतिबंध लगाया गया था. नियम के मुताबिक चले होते तो उन्हें लंदन ओलंपिक में शामिल नहीं होने दिया जाता.

बाख ने बताया कि सोची गेम्स में टेस्ट के लिए लेबोरेट्री और इस तरह की दूसरी सुविधाएं तैयार करने पर करोड़ों डॉलर खर्च किए गए हैं. उन्होंने इन खर्चों को "खेल के भविष्य पर निवेश" कहा. ओलंपिक संघ के प्रमुख ने कहा कि डोपिंग के खिलाफ जंग सुरक्षा के उपायों की तरह हैं. उन्होंने संकेत दिए कि वो इस लड़ाई को आतंकवाद के खिलाफ जंग की तरह ले रहे हैं, "साफ सुथरे एथलीटों को बचाना हमारा अंतिम लक्ष्य है. हमारे सभी फैसलों और पहल में यह हमारी शीर्ष प्राथमिकता होगी."

एनआर/एजेए (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री