1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

सेल्फ ड्राइविंग सिस्टम ने ली पहली जान

दुनिया भर में सेल्फ ड्राइविंग कार के चर्चे हैं. अभी तो परीक्षण ही चल रहा है, उसके सड़क पर उतरने में अभी देर है. तकनीक का विकास कर रहे लोग उसकी सुरक्षा की दलीलें दे रहे हैं, लेकिन उसने पहली इंसानी जान ले ली है.

सेल्फ ड्राइविंग मोड में चल रही कार के साथ हुई दुर्घटना में मारा जाने वाला इंसान टेस्ला मॉडल एस का तकनीक पसंद 40 वर्षीय मालिक था. उसे अपनी कार इतनी पसंद थी कि उसने उसे टेस्सी नाम दिया था और वह सॉफिस्टिकेटेड ऑटो पाइलट सिस्टम की तारीफ करते अघाता नहीं था. लेकिन सात मई को फ्लोरिडा के पास एक सड़क हादसे में जोशुआ डी ब्राउन की मौत हो गई. सरकारी दस्तावेजों और गुरुवार को टेस्ला द्वारा जारी बयान के अनुसार कार का कैमरा सामने में मुड़ रहे ट्रैक्टर के ट्रेलर की सफेद साइड और खुले आसमान के बीच अंतर नहीं कर पाया और इसलिए ऑटोमैटिक ब्रेक एक्टिव नहीं हुआ.

सरकार ने कहा है कि वह कार के डिजायन और टेस्ला सिस्टम के प्रदर्शन की जांच कर रही है. ट्रैक्टर ट्रेलर के ड्राइवर 62 वर्षीय फ्रांक बारेसी ने कहा है कि टेस्ला ड्राइवर कार की टीवी स्क्रान पर हैरी पॉटर फिल्म चला रहा था, कार इतनी तेज थी कि "वह मेरे ट्रेलर से इतनी तेजी से गया कि मैंने उसे नहीं देखा." बारेसी ने कहा है कि वे फिल्म देख नहीं पाए, सिर्फ उसे सुना. टेस्ला कंपनी का कहना है कि मॉडल एस के टच स्क्रीन में वीडियो देखना संभव नहीं है.

Tesla Motors Elektroauto Model 3

सेल्फ ड्राइविंग कार बनाने में टेस्ला काफी आगे

ब्राउन के शोक संदेश में कहा गया था कि वे 11 साल तक नेवी सील के सदस्य रहे थे और बाद में उन्होंने वाशिंगटन में वायरलेस इंटरनेट नेटवर्क और कैमरा सिस्टम कंपनी बनाई थी. पैंटागन ने ब्राउन के सील के लिए काम करने की पुष्टि की और कहा कि उन्होंने 2008 में नौकरी छोड़ दी थी. टेक्नोलॉजी कंपनी के मालिक ब्राउन ने एक महीने पहले अप्रैल में अपनी 2015 मॉडल की कार को एक इंटरस्टेट हाइवे पर दुर्घटना रोकने श्रेय दिया था. उन्होंने दुर्घटना की वीडियो भी जारी की थी.

टेस्ला ने कहा है कि ड्राइवरों को ऑटोपाइलट सिस्टम को मैनुअली चलाना जरूरी है. "ऑटोपाइलट लगातार बेहतर हो रहे हैं, लेकिन वे पर्फेक्ट नहीं हैं और ड्राइवरों को अभी भी अलर्ट रहने की जरूरत है." अमेरिका के नेशनल हाइवे ट्रैफिक सेफ्टी एडमिनिस्ट्रेशन ने दुर्घटना की जांच शुरू कर दी है. आरंभिक रिपोर्टों के अनुसार दुर्घटना तब हुई जब बारेसी की गाड़ी हाइवे की क्रॉसिंग पर जहां ट्रैफिक लाइट नहीं थी, ब्राउन की गाड़ी के सामने बाएं मुड़ गई. फ्लोरिडा हाइवे पेट्रोलिंग पार्टी के अनुसार ब्राउन की दुर्घनास्थल पर ही मौत हो गई.

देखिये, कैसे होता है कारों का क्रैश टेस्ट

टेस्ला ने एक बयान में कहा है कि यह ऑटोपाइलट के 13 करोड़ किलोमीटर ऑपरेशन में पहली ज्ञात मौत है. कंपनी के अनुसार ऑटोपाइलट का इस्तेमाल करने से पहले ड्राइवरं को समझना होगा कि यह मदद देने का यंत्र है जिसके लिए दोनों हाथ ह्वील पर होने की जरूरत है. ड्राइवरों से कहा जाता है कि उन्हें कंट्रोल के लिए तैयार रहने की जरूरत है. कंपनी ने कहा है कि ऑटोपाइलट इस बात की जांच करता है कि ड्राइवर का हाथ स्टीयरिंग पर है या नहीं और ऐसा नहीं होने पर चेतावनी देता है.

ब्राउन की मौत ऐसे समय में हुई है जब नेशनल हाइवे ट्रैफिक सेफ्टी एडमिनिस्ट्रेशन अमेरिका में सेल्फ ड्राइविंग कारों पर सड़क पर आने को आसान बना रही है. इससे रोड पर ड्राइविंग में भारी परिवर्तन आने की उम्मीद है और टेस्ला इसमें अगुआ भूमिका निभा रहा है. उम्मीद की जा रही है कि सेल्फ ड्राइविंग कार सड़कों पर मानवीय भूलों की संभावना खत्म कर देंगे जो 94 प्रतिशत दुर्घटनाओं के लिए जिम्मेवार हैं.

एमजे/ओएसजे (एपी)

DW.COM