1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

सेमीफाइनल में डॉर्टमुंड की टीम

बोरुसिया डॉर्टमुंड की टीम जर्मन फुटबॉल संघ यानी डीएफबी कप के सेमीफाइनल तक पहुंच गई है. सवाल अब यह है कि बाकी टीमों की तैयारी कैसी है. डॉर्टमुंड ने पिछली बार 2012 में कप जीता था.

मई के महीने में डीएफबी कप, यूरोपा लीग और बुंडेसलीगा के खेलों का आयोजन होता है. ऐसे में किसी भी टीम से उम्मीद नहीं की जा सकती कि वह सारी प्रतियोगिताओं में अच्छा प्रदर्शन करे. जर्मन फुटबॉल लीग बुंडेसलीगा में 12वें स्थान वाली फ्रैंकफर्ट की टीम को बोरुसिया डॉर्टमुंड की टीम ने 1-0 से हरा दिया है.

डॉर्टमुंड की टीम के कप्तान सेबास्टियान केल अपनी जीत से बेहद खुश हैं, "जीत के लिए हमने खूब काम किया और हमारे पास गोल करने के मौके भी बने. हाफटाइम के बाद लेकिन हम इतना अच्छा नहीं खेल पाए." वहीं फ्रैंकफर्ट के स्ट्राइकर आलेक्सांडर मायर काफी दुखी थे, "फैन्स ने देखा कि हमने खेल में सब कुछ दे दिया लेकिन हम हार गए, इसमें कोई भी बात खुश करने वाली नहीं है."

आउबामेयांग का शानदार प्रदर्शन

डॉर्टमुंड को जिताने वाला एक गोल बहुत ही सामान्य तरीके से हुआ. हेनरिक म्खितारयान ने साइड से बॉल केल को दी और पियेर एमेरिक आउबामेयांग ने सर से गेंद पर मारकर उसे गोलपोस्ट के पार कर दया. फ्रैंकफर्ट काफी दुखी हुआ क्योंकि तब तक उन्होंने विपक्षी टीम को सीमित रखा था. यहां तक कि टीम पेनल्टी शूटआउट की तैयारी कर रही थी.

डॉर्टमुंड ने 2012 में डीएफबी कप जीता लेकिन उसकी टीम में चार स्टार खिलाड़ी इस बार शामिल नहीं हो पाए हैं. मार्को रॉयस और स्वेन बेंडर को चोट लगी है. याकुब ब्लाशिकोव्सकी, इल्काय गुंडोगान और माट्स हुमेल्स काफी दिन से छुट्टी पर हैं. और शायद इन खिलाड़ियों की चोटों की वजह से फ्रैंकफर्ट के साथ खेल बराबरी का रहा. वैसे फ्रैंकफर्ट का खेल भी आक्रमक रहा और उन्हें गोल करने के मौके भी मिले. इस हफ्ते बुंडेसलीगा के खेल में डॉर्टमुंड की भिड़ंत बायर्न म्यूनिख से होगी और डीएफबी कप के बाकी क्वार्टर फाइनल मैच होंगे.

रिपोर्टः सारा वीर्त्स/एमजी

संपादनः आभा मोंढे

DW.COM