1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

सेक्स का खेल पर कितना असर

लंबे अर्से से खेल के अहम मुकाबलों के पहले खिलाड़ियों की बीवी या गर्लफ्रेंड के साथ सफर करने को लेकर बहस होती आई है. कई लोग विश्वास रखते हैं कि मैच से पहले खिलाड़ियों को सेक्स से दूर रहना चाहिए.

ब्राजील में फुटबॉल विश्व कप के पहले एक बार फिर चर्चा नए सिरे से छिड़ गई है. इसे हवा मेक्सिको के कोच मिगुल हरेरा ने दी. पिछले महीने रिफोर्मा अखबार से बात करते हुए उन्होंने उम्मीद जताई कि उनके खिलाड़ी ब्राजील में रहते हुए सेक्स से बचेंगे. इस टिप्पणी के बाद मीडिया में बहस छिड़ गई, जिसके बाद हरेरा को सफाई देनी पड़ी की वह "पाबंदी की बात नहीं कर रहे हैं. बल्कि वे खिलाड़ियों से आग्रह कर रहे हैं कि वे बुद्धिमानी से बर्ताव करें". हरेरा ने ब्राजील के कोच लुइस फिलिपे स्कोलारी के बयान का सहारा लेते हुए अपनी सफाई दी. स्कोलारी ने अपने खिलाड़ियों को बेडरूम "कलाबाजी" से बचने का आगाह किया था.

सेक्स के कारण प्रदर्शन पर पड़ने वाले प्रभाव पर थ्योरी सदियों पुरानी है. इस थ्योरी को प्राचीन यूनानियों से जोड़ कर देखा जा सकता है. जिनका मानना था कि पुरुषों के शुक्राणुओं को सुरक्षित रखना बेहद महत्वपूर्ण है, जिससे अखाड़ों में तेजी और आक्रामकता बनी रहती है. हालांकि परहेज करने को लेकर वैज्ञानिक सबूत बहुत कम हैं.

2013 में मॉन्ट्रियाल यूनिवर्सिटी के शोध से पता चला कि सेक्स के दौरान पुरुष 100 कैलोरी खर्च करता है जो कि बगीचे में 20 मिनट काम के बराबर है. वास्तव में कई खिलाड़ी और जानकारों का मानना है कि बड़े मुकाबले से पहले वाली रात आनंद से बितानी चाहिए, जिससे अच्छी नींद आए.

यौन संपर्क से ज्यादा कोच को इस बात की चिंता होती है कि खिलाड़ी अपनी जवानी के अहम समय पूरी रात चलने वाली पार्टी और शराबखोरी में लगा देते हैं. खिलाड़ियों से जुड़ी ऐसी रिपोर्टें असामान्य नहीं है. पिछले साल ब्राजील में हुए कन्फेडरेशन कप में स्पेन के खिलाड़ियों की तस्वीरें सेक्स वर्करों के साथ सामने आई थीं.

हरेरा के पास स्पष्ट कारण है कि वे अपने खिलाड़ियों की मौज मस्ती की प्रवृत्ति को बांधकर रखें. क्योंकि सितंबर 2010 में मेक्सिको के राष्ट्रीय टीम के दो खिलाड़ियों को निलंबित कर दिया गया था और कई खिलाड़ियों पर जुर्माना लगाया था. उन पर मैच के बाद हुई पार्टी में अनुशासनहीनता के आरोप लगे थे. स्थानीय मीडिया ने अपनी रिपोर्ट में बताया था कि इस कांड में देह व्यापार करने वाली महिलाएं शामिल थीं.

खेल विशेषज्ञों ने अनुमान लगाया कि छह महीने के निलंबन के कारण ही कार्लोस वेला ने इस बार फुटबॉल विश्व कप में खेलने से इनकार कर दिया. वेला को मेक्सिको का शीर्ष स्ट्राइकर माना जाता है. कई यूरोपीय टीमों में, जिनमें जर्मनी और स्पेन शामिल हैं, मैच के पहले पार्टनर से मुलाकात पर पाबंदी है. छुट्टी वाले दिन ही खिलाड़ियों की पत्नी या फिर प्रेमिका को होटल में जाकर उनसे मिलने की इजाजत है.

एए/एजेए (एपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री