1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

सेंचुरियन टेस्ट बचा लेंगे: गौतम गंभीर

सेंचुरियन टेस्ट की दूसरी पारी में शानदार 80 रन बनाने वाले गौतम गंभीर को विश्वास है कि टीम इंडिया यह मैच बचा लेगी. हालांकि गंभीर को मलाल है कि उन्होंने तीसरे दिन का खेल खत्म होने के कुछ ही देर पहले अपना विकेट खो दिया.

default

सेंचुरियन टेस्ट की दूसरी पारी में भारत ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दो विकेट पर 190 रन बना लिए हैं और क्रीज पर राहुल द्रविड़ और नाइट वॉचमैन ईशांत शर्मा मौजूद हैं. भारत अब भी दक्षिण अफ्रीका से 294 रन पीछे है. पहली पारी में भारत के 136 रन के जवाब में दक्षिण अफ्रीका ने 620 रन का पहाड़ खड़ा कर दिया. दूसरी पारी में भारत अपेक्षाकृत अच्छा खेल रहा है और गंभीर ने 80 रन और सहवाग ने 63 रन का योगदान दिया.

Gautam Gambhir Cricketspieler Indien

गंभीर के मुताबिक पहले दिन के बाद पिच अब बेहतर खेल रही है. "हम मान कर चल रहे थे कि इस पिच पर बल्लेबाजी करना अच्छा रहेगा. लेकिन दुर्भाग्यवश हमने जल्दी विकेट खो दिए. उस समय विकेट में नमी थी और गेंद भी स्विंग हो रही थी. दूसरी पारी में स्थिति बदल गई है और पिच बल्लेबाजी के लिए अच्छी है. हमें लगता है कि हम इतनी देर बल्लेबाजी कर लेंगे कि मैच बचा लें."

पुराने टेस्ट मैच की याद दिलाते हुए गंभीर कहते हैं कि ऐसा ही उन्होंने नेपियर टेस्ट में न्यूजीलैंड के खिलाफ किया. नेपियर टेस्ट का अनुभव टीम के लिए बेहद अहम है. "हम यह मान कर चल रहे हैं कि अगर हमने ऐसा अतीत में किया है तो फिर आगे क्यों नहीं कर सकते. अगर हम इस मैच को ड्रॉ करा लेते हैं तो फिर सीरीज का पलड़ा हमारे पक्ष में हो जाएगा."

मैच के चौथे दिन भारत की रणनीति पर गंभीर ने कहा कि बल्लेबाज अपना लक्ष्य पूरे सत्र में बल्लेबाजी करना रखेंगे. अगर टीम के बल्लेबाज शनिवार को बढ़िया खेल सकते हैं तो फिर चौथे और पांचवे दिन भी वे ऐसा कर सकते हैं.

सचिन तेंदुलकर के 50वें शतक के बारे में गंभीर ने ज्यादा बात करने से इनकार कर दिया. उन्होंने कहा कि सचिन का लक्ष्य अच्छी बल्लेबाजी करना और मैच को बचाना है. वह अपने 50वें शतक के बारे में नहीं सोच रहे हैं. अगर वह अच्छा खेलते हैं और मैच बचाने में कामयाब होते हैं और ऐसा करते समय अपना शतक पूरा करते हैं तो यह सोने पर सुहागा होगा.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: एन रंजन

DW.COM

WWW-Links