1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

सुषमा जी, भारत घर जैसा लगा: पाकिस्तानी लड़कियां

तनाव के बीच अमन और शांति का पैगाम लेकर भारत गईं 20 पाकिस्तानी लड़कियां वापस अपने वतन पहुंच गई हैं. वे भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के प्यार और अपने भारत दौरे से बहुत खुश हैं.

ये लड़कियां चंडीगढ़ में होने वाले "ग्लोबल यूथ पीस फेस्टिवल" में हिस्सा लेने के लिए गई थीं. इनमें से एक आलिया हरीर जब भारत में थी तो अपने शिष्टमंडल की सुरक्षा को लेकर चिंतित थी. उन्होंने इस बारे में एक ट्वीट में लिखा कि उनकी भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से बात हुई है और उन्होंने इस बात का भरोसा दिलाया है कि पाकिस्तानी शिष्टमंडल सुरक्षित अपने देश पहुंचेगा.

आलिया के इस ट्वीट के जवाब में स्वराज ने ट्विटर पर लिखा, "आलिया मैं तुम्हारे लिए चिंतित थी क्योंकि बेटियां तो सबकी साझी होती हैं.”

आलिया ने भारतीय विदेश मंत्री को जबाव देते हुए लिखा है कि "पाकिस्तान शिष्टमंडल सकुशल वापस पहुंच गया है. आपकी बेटी कहलाने का सौभाग्य मिला और क्या चाहिए.”

पाकिस्तानी अखबार एक्सप्रेस ट्रिब्यून से बातचीत में आलिया हरीर ने बताया कि उन्होंने एक अक्टूबर को भारतीय विदेश मंत्री से संपर्क किया था. सुषमा स्वराज ने आलिया से पूछा कि उन्हें भारत कैसा लगा. आलिया कहती हैं कि उन्होंने भारतीय विदेश मंत्री से कहा कि भारत अपने घर जैसा लगा.

भारत और पाकिस्तान के बीच इन दिनों तल्ख बयानों का सिलसिला जारी है. ऐसे में भारतीय विदेश मंत्री और पाकिस्तानी लड़कियों की ट्विटर पर बातचीत को सकारात्मक ही कहा जाएगा. आलिया समेत 20 लड़कियां चंडीगढ़ गई थीं. ये लड़कियां पाकिस्तान के अलग अलग स्कूलों की तरफ से दोस्ती और अमन का संदेश लेकर भारत गई थीं. ग्लोबल यूथ पीस फेस्टिवल में उन्हें ग्लोबल यूथ आइकन का अवॉर्ड भी मिला.

रिपोर्ट: बीनिश जावेद

DW.COM

संबंधित सामग्री