1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

डीडब्ल्यू अड्डा

सुर्खियों में मनमोहन की आलोचना

जर्मन मीडिया में इस सप्ताह चीनी प्रधानमंत्री वेन जियाबाओ का भारत और पाकिस्तान दौरा सुर्खियों में है, लेकिन भारत के घोटाले भी मीडिया में बने हुए हैं.

default

प्रधानमंत्री वेन जियाबाओ तीन दिनों के दौरे पर नई दिल्ली में थे. वीटो अधिकारों से लैस सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्य देशों के राज्य व सरकार प्रमुखों में वे चौथे हैं जो छह महीने के अंदर भारत गए हैं. और ज्युड डॉयचे त्साइटुंग का कहना है कि इनमें से पांचवें रूस के राष्ट्रपति दिमित्री मेद्वेदेव अगले ही सप्ताह नई दिल्ली में राजनीतिक नेतृत्व से मिलेंगे.

घरेलू मोर्चे पर भारत की सरकार अपने दूसरे कार्यकाल की कठिनतम परीक्षा का सामना कर रही है. गठबंधन सरकार की सबसे बड़ी ताकत कांग्रेस पार्टी कई घोटालों का सामना कर रही है. अब तक पाक साफ समझे जाने वाले प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी भारी आलोचना के केंद्र में हैं. इसके विपरीत नई दिल्ली विदेशनैतिक रूप से अपने को बहुत अच्छी स्थिति में देख रही है, जो दौरे पर आने वालों की प्रभावशाली सूची भी दिखाती है. स्वाभिमानी भारत खासकर बराक ओबामा के हाल के इस बयान पर खुश था कि वह कोई उभरती सत्ता नहीं है बल्कि यह दर्जा पा चुका है.

विश्व सत्ताओं द्वारा भारत को दिए जा रहे महत्व के बीच फ्रांकफुर्टर अलगेमाइने त्साइटुंग ने इस सप्ताह भी भारत में पिछले दिनों सामने आए घोटालों की चर्चा की है और कहा है कि देश में हंगामा है. अखबार के अनुसार भारत में कॉमनवेल्थ गेम्स के आयोजन के बाद से एक के बाद एक भ्रष्टाचार कांडों की लाइन लग गई है जिसमें देश का संभ्रांत वर्ग फंसा है, केंद्रीय मंत्री, मुख्यमंत्री, प्रमुख अधिकारी, बैंकर और सेना के जनरल. अखबार लिखता है कि इन कांडों का शिकार है सारा समाज.

NO FLASH Obama in Indien

भ्रष्टाचार को किसी एक आदमी का लोभ समझना भ्रामक है. वह व्यवस्थित है. भारत को देखते हुए यह सवाल उठता है कि इस समय इस देश का कितना गलत मूल्यांकन हो रहा है. राष्ट्रपति बराक ओबामा ने उसे अभी ही सम्मानित किया है और उभरते बाजार से विकसित देश बना दिया है. भारत का संभ्रात वर्ग दो अंकों वाली विकास दर और सबसे बड़ा लोकतंत्र होने के अंतहीन गाने गा रहा है. दोनों सही हैं. लेकिन सवाल यह उठता है कि इन शब्दों का मूल्य क्या है. क्योंकि एक विकास दर जो समाज के बड़े हिस्से तक पहुंच नहीं रही है और एक लोकतंत्र, जिसमें एकल व्यक्तियों के योगदान का कोई मोल नहीं है, खोखले शब्द हैं. रिश्वत के ऑक्टोपस के हाथ बहुत लंबे होते हैं. एशिया में उनसे बचना शायद ही संभव है. और ऐसा वर्षों तक रहेगा. इसलिए जरूरी यह है कि अपनी बेगुनाही पर जोर देने के बदले इसे बार बार सार्वजनिक किया जाए.

भारत के बाद वेन जियाबाओ पाकिस्तान गए हैं. वेन जियाबाओ के पाकिस्तान दौरे के बारे में नौए ज्युरिषर त्साइटुंग ने लिखा है

पाकिस्तान में चीन की बढ़ती उपस्थिति कश्मीर पर रुख के अनौपचारिक परिवर्तन के साथ जुड़ा है. बीजिंग ने अब तक खुद को इस विवाद से आम तौर पर बाहर रखा है और उसे भारत और पाकिस्तान की द्विपक्षीय समस्या बताता रहा है. लेकिन कुछ दिनों से वह एक नए शब्द का इस्तेमाल कर रहा है. कश्मीर के भारतीय हिस्से को जिसे वह अब तक "भारत प्रशासित कश्मीर" कहता था अचानक "विवादास्पद क्षेत्र" कहा जा रहा है. पाकिस्तानी हिस्सा जिसे "पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर" कहा जाता था अब उसे "पाकिस्तानी इलाका" कहा जा रहा है. उसके साथ ही चीनियों ने अरुणाचल और जम्मू कश्मीर के लोगों को दूसरे भारतीयों के विपरीत नत्थी वीजा देना शुरू कर दिया है.

Indien China Besuch Wen Jiabao Dezember 2010 Flash-Galerie

ज्युरिष से प्रकाशित अखबार आगे लिखता है

चीन और भारत जैसी दो उभरती आर्थिक सत्ताएं एक विवाद की लक्जरी बर्दाश्त नहीं कर सकतीं. ऐसे ही विचार उन 400 चीनी उद्यमियों के भी रहे होंगे जो वेन जियाबाओ के साथ दौरे पर गए थे. हाल के आर्थिक संकट के बाद निर्यात बाजार के रूप में भारत का महत्व बढ़ गया है.

वेन जिया बाओ के भारत दौरे पर टिप्पणी करते हुए कारोबारी दैनिक हांडेल्सब्लाट ने लिखा है कि निकट

DW.COM