1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

सुप्रीम कोर्ट ने तीस्ता सीतलवाड़ को झा़ड़ा

सुप्रीम कोर्ट ने सामाजिक कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ को गुरुवार को करारी डांट पिलाई. दंगों का मामला विदेशी संस्थाओं के सामने उठाने पर सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि वह अपने मामलों को खुद संभाल सकता है.

default

दंगा पीड़ितों के साथ सीतलवाड़

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि विदेशी मानवाधिकार संगठनों के दखल की इसमें कोई जरूरत नहीं है क्योंकि वह अपने मामलों की देखरेख खुद कर सकता है. जस्टिस डीके जैन की अध्यक्षता वाली स्पेशल बेंच ने कहा, "हम इस बात को बिल्कुल अच्छा नहीं समझते कि अन्य संगठन हमारे कामकाज में दखल दें. हम खुद देखरेख कर सकते हैं और किसी के निर्देश की जरूरत हमें नहीं है. यह हमारे काम में सीधा दखल है. हम इसे बिल्कुल नहीं सराहेंगे."

कोर्ट इस बात से खफा था कि सीतलवाड़ के एनजीओ सिटिजंस फॉर जस्टिस एंड पीस (सीजेपी) ने जिनेवा स्थित ऑफिस ऑफ हाई कमिश्नर फॉर ह्यूमन राइट्स के सामने दंगों में गवाहों की सुरक्षा का मसला उठाया.

बेंच ने कहा, "ऐसा लगता है कि आपको इस अदालत से ज्यादा भरोसा विदेशी संगठनों पर है. लगता है अब वही गवाहों की सुरक्षा करेंगे." कोर्ट ने कहा कि अगर ऐसे पत्र लिखे गए तो कोर्ट सीजेपी की समस्याएं सुने बिना ही फैसला सुना सकती है.

कोर्ट के सामने यह मुद्दा वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे ने उठाया जो 2002 के गुजरात दंगों के मामले में कोर्ट के सलाहकार के तौर पर काम कर रहे हैं. कोर्ट की झाड़ पड़ने के बाद सीतलवाड़ के एनजीओ की वकील कामिनी जायसवाल ने कहा कि आइंदा ऐसे पत्र नहीं लिखे जाएंगे.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः ए कुमार

DW.COM

WWW-Links