1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

सुखी रिश्ते के लिए सेक्स नहीं, खाना जरूरी

अक्सर दलील दी जाती है कि दांपत्य जीवन में दरार आने का एक मुख्य कारण शारीरिक संबंधों में कमी या निरसता होती है लेकिन यही एक कारण नहीं हैं जो रिश्तों को अजनबी बना देता है.

default

फोर्सा नाम की एक संस्था 14 साल से ऊपर के एक हजार से ज्यादा लोगों के सामने एक सवाल रखा और उनसे हां या ना में जवाब देने के लिए कहा. जवाब देने वाले दो तिहाई लोगों का जवाब था हां.

सवाल था, "सहजीवन या सुखी दांपत्य के लिए कभी कभी साथ बैठ कर खाने का आनंद उठा सकना सेक्स से ज्यादा जरूरी होता है." 65 फीसदी लोगों ने इस वाक्य का हां में उत्तर दिया.

50 साल से ज्यादा उम्र के करीब 75 प्रतिशत लोगों ने साथ रहकर आनंद उठाने को शारीरिक संबंधों से ज्यादा महत्व दिया. जबकि पार्टनर के साथ रहने वाली महिलाओं और पुरुषों में 70 फीसदी ने साथ खाने का आनंद उठा सकने की अहमियत का समर्थन किया. जबकि सिंगल्स में 58 प्रतिशत लोग ही इसके समर्थन में रहे.

Paar elegant Mann schenkend Frau Päckchen Schmuck Abendessen Restaurant Kerzen romantisch

ब्रिगिटे बैलेन्स के इस सर्वे में सामने आया कि 39 फीसदी महिलाएं इस बात पर ध्यान देती हैं कि उनका साथी क्या और कितना खा रहा है जबकि कैलोरी नियंत्रण के मामले में 28 फीसदी पुरुष ही ध्यान देते हैं.

भारत के लिए इससे भी रोचक बात यह है कि सर्वे में हर तीसरे पुरुष या महिला ने इस वाक्य पर राइट का निशान लगाया कि वह किसी वेजिटेरियन महिला या पुरुष के साथ नहीं रह सकते. सर्वे में 50 साल से ज्यादा उम्र के लोग और पूर्वी जर्मनी के लोगों ने अक्सर खुद को शाकाहार(मांस रहित भोजन) का दुश्मन बताया. कुल 42 प्रतिशत लोगों का विचार था कि स्वस्थ खाने के बारे में बहस अतिशयोक्ति है और मेरा दिमाग खराब करती है.

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा एम

संपादनः ओ सिंह

DW.COM

WWW-Links