1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

सुआरेस वर्ल्ड कप से बाहर

विपक्षी खिलाड़ी को दांत काटने वाले उरुग्वे के लुइस सुआरेस पर फीफा ने नौ अंतरराष्ट्रीय मैचों की पाबंदी लगाई. सुआरेस अब वर्ल्ड कप नहीं खेल पाएंगे. उन पर 1,11,000 डॉलर का जुर्माना भी ठोंका गया है.

79वें मिनट में इटली के जॉर्जियो केलीनी को दांत कांटने के मामले में फीफा की अनुशासन समिति से सुआरेस को दोषी पाया. नौ अंतरराष्ट्रीय मैचों की पाबंदी, 1,11,000 डॉलर के जुर्माने के साथ ही फीफा ने उन्हें खेल से जुड़ी किसी भी गतिविधि से चार महीने के लिए दूर कर दिया है. इसका मतलब है कि सुआरेस अगले चार महीने तक लीग फुटबॉल भी नहीं खेल पाएंगे. उरुग्वे का ये स्ट्राइकर इंग्लिश प्रीमियर लीग में इंग्लैंड के क्लब लीवरपूल के लिए खेलता है.

फीफा की अनुशासन समिति के अध्यक्ष क्लाउडियो सुलसेर ने कहा, "किसी भी फुटबॉल पिच पर ऐसा व्यवहार बर्दाश्त नहीं किया जा सकता और खास तौर पर वर्ल्ड कप में जब करोड़ों लोग अपने सितारों को मैदान पर देख रहे हों." प्रतिबंध तुरंत प्रभाव से लागू हो चुके हैं.

27 साल के सुआरेस मौजूदा वक्त के बेहतरीन स्ट्राइकरों में शुमार हैं, लेकिन वो मैदान पर गुस्सा उतारने के लिए बदनाम हैं. सुआरेस ने 2010 में हॉलैंड के क्लब अयाक्स का कप्तान रहते हुए ओटमन बाकाल के कंधे पर दांत गड़ा दिए थे. तब उन पर सात मैचों का प्रतिबंध लगा. अप्रैल 2013 में लीवरपूल के लिए खेलते हुए सुआरेस ने चेल्सी के ब्रानीस्लाव इवानोविच पर दांत गड़ा दिए. इसके लिए उन पर 10 मैचों की पांबदी लगी.

उरुग्वे को प्री क्वार्टर में पहुंचाने में सुआरेस का बड़ा योगदान रहा. लेकिन अब टीम को उनके बिना खेलना पड़ेगा, इसका मतलब यह भी है कि उरुग्वे को जल्द वर्ल्ड कप से विदाई की तैयारी करनी होगी.

ओएसजे/एमजे (रॉयटर्स)

DW.COM