1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

सुंदर, तन्हा युवती का सहारा लेते हैकर

फेसबुक पर एक खूबसूरत लड़की की तस्वीर. रिलेशनशिप स्टेटस, उलझा हुआ. ऑनलाइन धोखाधड़ी की शुरुआत कुछ इसी तरह होती हैं. कुछ पुरूष झांसे में आते हैं और फिर बर्बादी का सिलसिला शुरू होता है.

दुनिया भर में सक्रिय धोखेबाज हैकर "हनी ट्रैप" यानि हुस्न का झांसा देकर ऑनलाइन ठगी कर रहे हैं. अब ऐसी जालसाजी में ईरान सरकार का नाम भी आ रहा है. हैकरों को लगता है कि ईरान सरकार ने एक खूबसूरत महिला के इंटरनेट अकाउंट के सहारे तेहरान के शत्रु देशों के अहम अधिकारियों को फांसने की कोशिश की.

फेसबुक, लिंक्डइन, व्हट्सऐप और ब्लॉगर में अप्रैल 2016 से एक महिला का प्रोफाइल था. नाम था, मिया ऐश. उसके प्रोफाइल में एक युवती की सुंदर तस्वीर थी. प्रोफाइल में उसकी उम्र 20 से 30 साल के बीच लगी. प्रोफाइल के मुताबिक वह एक पेशेवर फोटोग्राफर है जो लंदन में रहती है. उसे घूमना, फुटबॉल देखना और संगीत पसंद है. डेल सिक्योवर्क्स का दावा है कि यह प्रोफाइल डिटेल न्यूयॉर्क के एक फोटोग्राफर के लिंक्डइन प्रोफाइल से चुरायी गयी.

डेल सिक्योरवर्क्स के मुताबिक मिया ऐश के मैसेज में खास किस्म के जासूसी वायरस थे. फोटोग्राफी सर्वे कहा जाने वाला एक वायरस मैसेज खोलने के बाद एक्टिव होता था. वहीं पपीरेट नाम का एक और मेलवेयर हमलावर को पीड़ित के कंप्यूटर और नेटवर्क का पूरा कंट्रोल दे देता था

.

डेल सिक्योवर्क्स को पूरा यकीन है कि यह प्रोफाइल ईरान के हैकिंग ग्रुप कोबाल्ट जिप्सी ने बनाया है. ईरान की सरकार से जब इस पर प्रतिक्रिया मांगी तो उसने कोई जवाब नहीं दिया.

मिया ऐश मध्य पूर्व की तेल कंपनियों में काम करने वाले तकनीशियनों और इंजीनियरों को ललचाती थी. डेल सिक्योरवर्क्स के मुताबिक मिया ऐश की आड़ में सऊदी अरब, इस्राएल, अमेरिका और भारत के लोगों को भी निशाना बनाया. डेल सिक्योरवर्क्स के सीनियर सिक्योरिटी रिसर्चर एलिसन विकॉफ के मुताबिक, "ये सारे लोग फोटोग्राफी के काम के चलते उससे नहीं मिलना चाहते, बल्कि उन्हें लगता है कि वाह, वह जवान है, सुंदर है, उसे घूमना पसंद है और वह बिदांस भी है."

अब मिया ऐश की असलियत सामने आ चुकी है. लिंक्डइन समेत कई इंटरनेट कंपनियों ने इस प्रोफाइल को डिलीट कर दिया है. इस मामले के सामने आने के बाद पता चला है कि सोशल मीडिया और नेटवर्किंग साइट्स पर बड़े पैमाने पर जासूसी और धोखाधड़ी हो रही है.

ओएसजे/एके (रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री