1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

सीरिया संकट पर करीब आ रहे हैं रूस-अमेरिका

अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव से मिले. जहां लावरोव ने अमेरिकी सरकार को 'समस्याएं सुलझाने वाला' कह कर तारीफ की, वहीं एफबीआई निदेशक जेम्स कोमी को पद से हटाये जाने की बात मजाक में उड़ा दी.

जेम्स कोमी को हटाए जाने का कारण उनका ट्रंप के चुनावी अभियान में रूस का हाथ होने के आरोप की जांच में शामिल होना बताया गया. फिर भी जब रूसी विदेश मंत्री लावरोव अपने अमेरिकी समकक्ष रेक्स टिलरसन के साथ फोटो खिंचवा रहे थे, तो कोमी को हटाये जाने पर पत्रकारों के सवाल को मजाक में उड़ा दिया. इस सवाल पर कि कोमी की बर्खास्तगी का उनकी वार्ता पर असर पड़ेगा या नहीं, लावरोव ने जवाब दिया: "क्या उन्हें हटा दिया गया? आप जरूर मजाक कर रहे हैं."

व्हाइट हाउस में भी ऐसा बहुत कम ही मौकों पर हुआ है कि द्विपक्षीय वार्ता के लिए किसी देश के विदेश मंत्री का स्वागत खुद अमेरिकी राष्ट्रपति करें. 20 जनवरी को राष्ट्रपति पद संभालने के बाद से किसी टॉप प्रमुख रूसी नेता के साथ यह ट्रंप की पहली उच्च स्तरीय सार्वजनिक मुलाकात है.

दो दिन पहले ही ट्रंप ने अचानक एफबीआई के निदेशक जेम्स कोमी को पद से हटाने का आदेश दे दिया था. उनकी एजेंसी 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में रूसी दखलअंदाजी की जांच कर रही थी और इस बात का भी पता लगा रही थी कि ट्रंप के चुनाव अभियान के सहयोगी मॉस्को के साथ मिले हुए थे या नहीं. विपक्षी डेमोक्रैट्स ने ट्रंप पर कोमी को हटा कर इस पूरी जांच प्रक्रिया को धीमा करने की कोशिश करने का आरोप लगाया है.

ट्रंप ने लावरोव से अपनी मुलाकात को "बहुत, बहुत अच्छा" बताया और कहा कि उन दोनों के बीच सीरिया के गृह यु्द्ध पर चर्चा हुई. रूस सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल असद का समर्थन करता है. रूस आधिकारिक तौर पर सितंबर 2015 में सीरिया की लड़ाई में शामिल हुआ. इससे पहले वह सीरिया को हथियार सप्लाई कर रहा था. 2014 के आखिर में अमेरिका के नेतृत्व में जर्मनी समेत 60 देशों के गठबंधन ने भी आईएस और अन्य आतकंवादी गुटों के ठिकानों पर हवाई हमले शुरू किये.

सीरियाई सरकार के खिलाफ सीधे कार्रवाई करने के विरोधी रहे अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने अप्रैल 2017 में सीरियाई शहर खान शेखहुन में हुए संदिग्ध रासायनिक हमले के बाद अपना रूख बदला और सीरिया के हवाई ठिकानों पर मिसाइलें दागीं. लावरोव से बातचीत के बाद ट्रंप ने बताया, "हम सीरिया में हो रही हत्याएं रुकते हुए देखना चाहते हैं, जितनी जल्दी हो सके उतनी जल्दी. और हम मिल कर उसी दिशा में प्रयास कर रहे हैं."  एक महीने पहले अमेरिकी विदेश मंत्री टिलरसन रूसी राष्ट्रपति पुतिन से मिले थे और अब लावरोव की अमेरिका यात्रा पर हुई वार्ता में उसी अजेंडा को आगे बढ़ाया गया है.

आरपी/एमजे (रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री