1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

सीरिया में शादी की वायरल हुई तस्वीरों का सच

युद्ध से तबाह हो चुके सीरिया की पृष्ठभूमि और एक नवविवाहित जोड़ा. पहली नजर में देखने पर जाफर मिराय की खींची वायरल हो गई ये तस्वीरें चौंका देती हैं. लेकिन सीरिया की पृष्ठभूमि में ये तस्वीरें एकदम नया अर्थ गढ़ती हैं,

सीरियाई फोटोग्राफर जाफर मिराय ने युद्धग्रस्त सीरिया के होम्स शहर के मलबे के बीच एक नवविवाहित जोड़े की यह नाटकीय तस्वीर खींची. तस्वीर में 18 साल की नादा मेहरी और 27 वर्षीय हसन यूसुफ को देखा जा सकता है. नादा विश्वविद्यालय में पढ़ रहीं हैं. सीरिया की राजधानी दमिश्क से उत्तर में 160 किलोमीटर दूर बसे पुराने शहर होम्स में इसी महीने की शुरूआत में उनकी शादी हुई.

इस जोड़े का प्यार भरा आलिंगन और शादी की एकदम सफेद पोशाक पहने दुल्हन की ये तस्वीरें शहर भर की तबाह ​इमारतों के मलबे और गोलियों से छिदी दीवारों के खिलाफ स्पष्ट विरोधाभास पैदा करती हैं. फोटोग्राफर जाफर मिराय सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद के प्रबल समर्थक हैं. डीडब्ल्यू से बात करते हुए उन्होंने बताया कि उन्होंने इन तस्वीरों में अपने शहर की तबाही को दर्शाते हुए 'यह दिखाना चाहा है कि "हम अब भी प्यार करने और उसे दर्शाने के काबिल हैं.'' वे आगे कहते हैं, ''हमने इन टूटी इमारतों को उम्मीद जताने के लिए इस्तेमाल किया है. और देश को फिर से संवारने के लिए मुहब्बत सबसे बुनियादी चीज है.''

देखने वाले की नजरों में होता है सौंदर्य

22 साल के फोटोग्राफर जाफर मिराय पेशेवर तौर पर पिछले एक साल से ही काम कर रहे हैं. वे कहते हैं कि वे यह दिखाने की कोशिश कर रहे हैं कि ''जिंदगी आगे बढ़ती रहती है.'' युवा फोटोग्राफर का मानना है, ''हो सकता है कि आपको हर तरफ तबाह ​इमारतें दिखाई दें, लेकिन अगर उन तस्वीरों में आप कुछ खूबसूरत चीज ले आएं, तो आपको उसमें वह खूबसूरती भी दिखाई देने लगेगी और असल में मुहब्बत ही वह खूबसूरती है.''

मिराय की ये त​स्वीरें वायरल हो गई हैं. लेकिन क्या असल में ये तस्वीरें वही हैं जो ये लगती हैं? तस्वीरों में सेना की वर्दी में दिखाई दे रहा यह शख्स बशर अल असद सरकार की सेना का जवान है. यह उसी सेना का जवान है जो कि तकरीबन छह साल तक सीरियाई सेना और विद्रोहियों के बीच चले गृहयुद्ध के दौरान कई घरों को तबाह करने के लिए जिम्मेदार रही है. यह वही सेना है जिसने हवाई हमलों, तोप के गोलों, मोर्टार और रॉकेट लांचरों से विद्रोही गुटों के लोगों की जान ली है.

सोशल मीडिया में कुछ ऐसे सवाल उठाए जा रहे हैं कि इन तस्वीरों को सरकार के पक्ष में प्रोपेगेंडा करने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है.

अगर ये तस्वीरें इस तरह का प्रोपेगेंडा नहीं भी हैं, तो भी सोशल मीडिया में कई लोगों का यह कहना है कि ये तस्वीरें युद्ध में मारे गए लोगों के लिए अपमानजनक हैं और भद्दी हैं. डीडब्लयू न्यूज के एक फेसबुक यूजर ने लिखा है, ''यह सैनिक एक ऐसी सेना में काम करता है जो कि दसियों हजारों मासूम नागरिकों के कत्ल की जिम्मेदार है. इसमें कुछ भी रोमांटिक नहीं है और ना ही कुछ खूबसूरत है. सिर्फ लगभग एक 18 साल की एक लड़की एक संभावित युद्ध अपराधी से शादी कर रही है.''

डीडब्ल्यू ने जब मिराय से यह पूछा कि क्या उनके इस प्रोजेक्ट को सरकार की ओर से मदद मिली है, तो उनका कहना था, ''सीरियाई सरकार की ओर से काफी सहयोग मिला है और उन्होंने ​इस आइडिया को काफी सराहा भी है.'' इस उभरते हुए फोटोग्राफर ने तफसील से कुछ भी बताने से इनकार कर दिया लेकिन यह जरूर कहा कि उन्हें उनकी फोटोग्राफी सीरीज के लिए लोगों की ओर से बड़ा समर्थन मिला है.

जाफर मिराय कहते हैं, ''सीरिया की आबादी का पांच फीसद हिस्सा मेरे किए के खिलाफ है,'' लेकिन इस बात की उन्हें कोई चिंता नहीं है. वे कहते हैं, ''आखिरकार सीरियाई सैनिक भी सीरिया के लोग हैं और इस लिहाज से मैं सीरिया के लोगों की तस्वीरें ले रहा हूं.''

युद्धग्रस्त सीरिया में मिराय ही एकमात्र ऐसे पेशेवर फोटोग्राफर नहीं हैं जो शादी ब्याह की तस्वीरें खींचते हों. पिछले साल ऐसा ही एक और फोटोग्राफर उभरा था जिसने होम्स के एक आधे टूटे सेंट जॉर्ज चर्च में एक शादी की तस्वीरें ली थीं. युद्धग्रस्त इलाके के इस ग्रीक ऑर्थोडॉक्स चर्च की छत एक युद्ध के दौरान टूट गई थी.

2011 के बाद से सीरियाई गृहयुद्ध में अब तक 250,000 से अधिक लोग मारे गए हैं. लाखों लोगों के घर तबाह हो गए हैं और 27 लाख से अधिक लोग पड़ोसी देश तुर्की में शरण की तलाश में चले गए हैं. साथ ही इनमें से यूरोप की ओर आ रहे लाखों लोगों के चलते यहां शरणार्थी संकट खड़ा हो गया है.

DW.COM

संबंधित सामग्री