1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

सीरिया में शांति के नए समझौते पर चर्चा

अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी ने चेतावनी दी है कि सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद की सरकार यदि नए शांति समझौते का उल्लंघन करती है तो उसकी "प्रतिक्रिया" होगी.

सीरिया के उत्तरी हिस्से में हिंसा की कई ताजा वारदातों में 22 अप्रैल से अब तक करीब 270 लोगों की मौत हो गई हैं. सीरियाई प्रांत अलेप्पो में असद प्रशासन और विद्रोही लड़ाकों के बीच भारी टकराव में मंगलवार को ही 30 लोगों की जान चली गई. अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी ने असद को कड़ी चेतावनी देते हुए नए शांति समझौते का पालन करने को कहा है.

केरी ने ऐसा ना करने के नतीजों पर बोलते हुए कहा, "फिर युद्धविराम पूरी तरह नष्ट हो जाएगा और युद्ध होगा." केरी ने जेनेवा में इस नए समझौते पर प्रारम्भिक वार्ता कर लौटने के बाद यह बात की. केरी ने यह भी कहा कि उन्हें "नहीं लगता कि रूस ऐसा चाहेगा. और ना ही असद को इससे कोई फायदा होगा."

उधर सीरिया में अलेप्पो की गंभीर स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बुधवार को बैठक हो रही है. जर्मनी के विदेश मंत्री फ्रांक-वाल्टर श्टाइनमायर बर्लिन में यूएन दूत श्टेपान डे मिस्तूरा, सीरिया के प्रमुख विपक्षी नेता रियाद हिजाब और फ्रांस के विदेश मंत्री जाँ मार्क ऐरो से मिलेंगे.

सुरक्षा परिषद की बैठक में अंतरराष्ट्रीय प्रयासों को धता बताकर सीरिया में पांच सालों से जारी हिंसा और खूनखराबे पर बात होगी. रूसी विदेश मंत्री सेर्गेई लावरोव ने कहा है कि वे जल्द से जल्द अलेप्पो में लड़ाई रुकते देखना चाहते हैं.

27 फरवरी को असद प्रशासन और गैरजिहादी विद्रोहियों ने साथ आकर सीरिया की स्थिति के बेहतर होने की उम्मीद जताई थी. लेकिन हाल के दिनों में तेज हुई हिंसा से वह उम्मीद धराशायी होती दिख रही है. अगले हफ्ते 9 मई को फ्रांस की राजधानी पेरिस में आयोजित वार्ता में सऊदी अरब, कतर, तुर्की और यूएई के विदेश मंत्री हिस्सा लेंगे और सीरिया के शांति समझौते को कायम रखने के तरीकों पर चर्चा करेंगे.

DW.COM

संबंधित सामग्री