1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

सीरियाई विपक्ष को राजनीतिक मान्यता

विश्व के प्रमुख देशों ने सीरिया में राष्ट्रपति बशर अल असद के खिलाफ विद्रोह कर रहे विपक्षी मोर्चे को पूरी राजनीतिक मान्यता दे दी है. फ्रेंड्स ऑफ सीरिया ग्रुप ने असद से एक बार फिर इस्तीफा देने की मांग की है.

मोरक्को के शहर माराकेश में इस ग्रुप में शामिल सौ से ज्यादा देशों के प्रतिनिधि और संगठन सीरिया में 21 महीनों से चल रही हिंसा को खत्म करने विपक्षी पार्टियों को समर्थन देने पर चर्चा कर रहे हैं. इस बीच राजधानी दमिश्क में स्थिति बिगड़ती जा रही है.

दमिश्क में दो बम हमलों के बाद एक व्यक्ति की मौत हो गई है और कई लोग घायल बताए जा रहे हैं. सरकारी समाचार एजेंसी सना का कहना है कि आतंकवादियों ने शहर के मध्य में स्थित न्याय महल के पास दो बम फोड़े. इसके अलावा राजधानी के पास दक्षिण पूर्व में जारामाना जिले में हमले हुए जिसमें एक व्यक्ति मारा गया और कई घायल हुए. जारामाना जिले में ज्यादातर ईसाई रहते हैं. इन धमाकों से काफी नुकसान हुआ है.

Ahmad Mouaz Al-Khatib Syrien Opposition Brüssel Treffen

सीरियाई विपक्ष के मोआज अल खातिब

फ्रेंड्स ऑफ सीरिया नाम की इस बैठक के आयोजन के एक दिन पहले अमेरिका ने सीरिया के विपक्षी अलायंस को औपचारिक तौर पर मान्यता दे दी. ब्रिटेन, फ्रांस, तुर्की और खाड़ी देशों ने पहले से ही नेशनल कोएलिशन फॉर सीरियन रेवोल्यूशनरी एंड ऑपोजिशन फोर्सेस को मान्यता दे दी थी. इस गठबंधन का नेतृत्व मोआज अल खातिब कर रहे हैं.

सीरियाई राष्ट्रीय काउंसिल के जॉर्ज साब्रा ने समाचार एजेंसी डीपीए को बताया, "माराकेश बैठक का एजेंडा सीरिया में मानवाधिकार स्थिति पर चर्चा करना है क्योंकि वहां से भागने वाले शरणार्थियों की संख्या बढ़ रही है." बैठक में जर्मनी, फ्रांस, ब्रिटेन और कनाडा के विदेश मंत्री शामिल हो रहे हैं. अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन अपने स्वास्थ्य की वजह से बैठक में हिस्सा नहीं ले रही हैं.

माराकेश गए जर्मन विदेश मंत्री गीडो वेस्टरवेले ने सीरिया के शरणार्थियों की मदद के लिए 2.2 करोड़ यूरो की मानवीय सहायता देने की घोषणा की है. यह धनराशि अंतरराष्ट्रीय रेड क्रॉस, विश्व खाद्य कार्यक्रम और यूएन शरणार्थी उच्चायोग को दी जाएगी. इसके साथ इस साल सीरिया विवाद के पीड़ितों को जर्मन मदद बढ़कर 9 करोड़ यूरो हो गई है.

इस बीच सीरियाई मानवाधिकार संगठन सीरिया ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स का कहना है कि दमिश्क में सरकारी सैनिकों और विद्रोहियों के बीच लड़ाई चल रही है. केंद्रीय प्रांत हामा में कार्यकर्ताओं ने बताया कि मंगलवार को एक हमले में 125 लोग या तो मारे गए या घायल हुए. हमले में अल्पसंख्यक समुदाय आलावीत के लोगों को निशाना बनाया गया. राष्ट्रपति बशर अल असद भी इसी समुदाय के हैं. अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन ह्यूमन राइट्स वॉच ने भी कहा है कि सीरियाई सेना नवंबर से अब तक हवाई हमले कर रही है. पत्रकारों को यात्रा करने की आजादी न होने की वजह से इन रिपोर्टों की पुष्टि नहीं हो पाई है.

एमजी/एमजे(एएफपी, डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री