सिर चढ़ कर बोल रहा है फुटबॉल का जादू | खेल | DW | 11.06.2014
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

सिर चढ़ कर बोल रहा है फुटबॉल का जादू

भले ही दुनिया में भारत की फुटबॉल टीम की रैंकिंग बहुत नीचे हो, ब्राजील में इस हफ्ते शुरू हो रहे विश्वकप के मौके पर यहां भी उसका जादू सिर चढ़ कर बोलने लगा है.

लोकसभा चुनावों की गहमागहमी और इंडियन प्रीमियर लीग के खुमार को पीछे छोड़ कर अब पूरे देश में फीफा विश्वकप की दीवानगी छाई है. लोगों में छाए इस खुमार को भुनाने के लिए खासकर टेलीविजन सेट बनाने वाली कंपनियों ने तरह-तरह की योजनाओं और नए उत्पादों को बाजार में पेश कर दिया है.

फुटबॉल का मक्का

पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता को तो फुटबॉल का मक्का कहा जाता है. यहां लोग मूल रूप से ब्राजील और अर्जेंटीना के खेमों में बंटे रहते हैं. ऊपर से जब तमाम मुकाबले ही ब्राजील में हो रहे हों तो फिर कहना ही क्या? कोलकाता समेत पूरा बंगाल फुटबॉल के खुमार में डूबा है. कहीं विश्वकप की ट्रॉफी की तर्ज पर मिठाइयां बन रही हैं तो कहीं दोनों पसंदीदा टीमों यानी ब्राजील और अर्जेटीना की जर्सियां बिक रही हैं. फुटबॉल प्रेमियों के उत्साह को देख कर लगता है कि विश्वकप का आयोजन सुदूर ब्राजील में नहीं बल्कि भारत में ही हो रहा है.

कोलकाता के तमाम फुटबॉल क्लब महानगर के विभिन्न इलाकों में विशालकाय पर्दों पर तमाम मैच दिखाने की तैयारी कर रहे हैं. अपनी आर्थिक तंगी के बावजूद राज्य सरकार भी पीछे नहीं है. उसने भी महानगर में सौ विशालकाय पर्दों पर मैच दिखाने की योजना बनाई है. पश्चिम बंगाल सरकार ने इस मौके पर कोलकाता से सटे बारासात में देश की पहली सरकारी फुटबॉल अकादमी की स्थापना की है. कहीं पसंदीदा खिलाड़ियों से दीवारें रंगी जाने लगी हैं तो कहीं अपनी पसंदीदा टीम के बैनर और पोस्टर लगाने की तैयारी चल रही है.

उपभोक्ताओं को लुभाने की होड़

उपभोक्ता उत्पाद बनाने वाली कंपनियों ने भी कोलकाता के फुटबॉल प्रेम को ध्यान में रखते हुए बड़े पैमाने पर प्रचार अभियान शुरू कर दिया है. उनमें उपभोक्ताओं को लुभाने की होड़ मची है. इस दौरान टेलीविजन सेटों की खरीद पर कई तरह की छूट दी जा रही है. शीतल पेय बनाने वाली कंपनी कोका कोला ने इस मौके पर फीफा विश्वकप के लोगो वाले एक करोड़ कैन बाजार में उतारे हैं. कंपनी के वाइस-प्रेसीडेंट (विपणन) देवब्रत मुखर्जी कहते हैं, "हमने इस मौके पर फुटबॉल प्रेमियों को ध्यान में रखते हुए आकर्षक पैकिंग में उत्पाद पेश किए हैं."

सोनी इंडिया के विपणन प्रमुख सुनील नैय्यर को विश्वकप के दौरान टीवी सेटों की बिक्री में 12 से 15 फीसदी बढ़ोतरी की उम्मीद है. सोनी, सैमसंग, एलजी और पैनासोनिक ने अपने प्रचार अभिय़ान पर तीस करोड़ से ज्यादा रकम खर्च की है. भारत में टेलीविजन बाजार के अस्सी फीसदी हिस्से पर इन कंपनियों का कब्जा है.

जर्सियों और झंडों की भारी मांग

बाजारों में ब्राजील और अर्जेंटीना की जर्सियों, फुटबॉल खिलाड़ियों के पोस्टरों आदि की भी भारी मांग है. एक दुकानदार शकील अहमद बताते हैं कि उनको इन दोनों टीमों की 12 सौ जर्सियों के आर्डर मिले हैं. इसी तरह मशहूर खिलाड़ियों के कटआउट और तस्वीरों की भी भारी बिक्री हो रही है. फीफा विश्वकप के पार्टनर एडिडास ने अपने स्टोरों पर जूतों और जर्सियों का भारी स्टाक रखा है और उनकी खूब बिक्री हो रही है.

एडिडास के इंडिया ब्रांड डायरेक्टर तुषार गोकुलदास के मुताबिक, "कंपनी कम से कम 15 लाख फुटबॉल प्रेमियों तक सीधे पहुंचने की योजना बना रही है." इसी तरह पूमा इंडिया ने भी देश के विभिन्न महानगरों में क्लबों और होटलों के साथ करार किया है. कंपनी की ओर से प्रायोजित टीम के जीतने पर वहां लोगों को मुफ्त में शराब और बीयर पिलाई जाएगी.

कुल मिला कर माहौल पूरे चरम पर है और अब सबको 12 जून को विश्वकप के रंगारंग उद्घाटन का बेसब्री से इंतजार है.

रिपोर्ट: प्रभाकर, कोलकाता

संपादन: महेश झा

DW.COM

संबंधित सामग्री