1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

सिर को बचाने के लिए गले में हेलमेट

साइकल चलाते वक्त लगाने के लिए एक हेलमेट बनाया गया है जिसमें एयरबैग लगा है. अगर साइकल गिरने लगे तो यह हेलमेट एयरबैग को खोल देगा और सिर में कोई चोट नहीं आएगी. इसे गले में पहना जाएगा.

default

साइकल वालों की खातिर

स्वीडन में बने इस हेलमेट को गले में स्कार्फ की तरह पहना जा सकेगा. यह सस्ता तो नहीं है लेकिन सुरक्षा तो बड़ी चीज है ही. और फिर इसे बनाने वाले कहते हैं कि इसे पहनने से बाल भी खराब नहीं होंगे जैसा कि सामान्य हेलमेट में होता है.

ऐना हॉप्ट कहती हैं, "हमारा मकसद साइकल के लिए एक ऐसा अदृश्य हेलमेट बनाना था जो बाल खराब न होने दे." स्वीडन की हॉप्ट और उनकी साथी टेरेसे आल्सटिन होवडिंग (द चीफ) नाम के इस हेल्मट को 2011 तक बाजार में उतार देंगी. अपने यूनिवर्सिटी प्रोजेक्ट के तौर पर उन्होंने इसे डिजाइन करने में छह साल का वक्त लगाया है.

Flash-Galerie Tour de France 2010 18. Etappe

देखने में सामान्य कॉलर जैसा दिखने वाले इस हेलमेट में एक सेंसर लगा है. इस सेंसर से हेलमेट के अंदर छिपा एयरबैग इस तरह जुड़ा है कि अगर सिर और गर्दन में कुछ भी असामान्य गति होती है तो बैग खुल जाएगा और सिर को ढक लेगा.

दुनिया में बहुत से लोग हेलमेट पहनने को एक परेशानी समझते हैं और हॉप्ट उन्हीं लोगों को ध्यान में रखकर काम कर रही थीं. वह कहती हैं, "हमारा मकसद ऐसे लोगों तक पहुंचना है जो हेलमेट नहीं पहनना चाहते. वे लोग हेलमेट पहनने में परेशानी महसूस करते हैं और इससे बाल भी खराब हो जाते हैं."

इस हेलमेट को अच्छी तरह और कई बार इस्तेमाल करके देखा जा चुका है. इसके इस्तेमाल के वीडियो इंटरनेट पर भी डाले गए हैं ताकि लोग उन्हें देख सकें. दोनों रिसर्चरों को लगता है कि अब उनका यह डिजाइन बाजार में आने के लिए पूरी तरह तैयार है. हालांकि स्कैंडेनेवियाई देशों (नॉर्वे, स्वीडन और डेनमार्क) के बाहर के लोगों को इस हेलमेट के लिए थोड़ा ज्यादा इंतजार करना होगा. इसकी एक वजह यह भी है कि बहुत सारे देशों में साइकल चलाते वक्त हेलमेट पहनना जरूरी नहीं है. लेकिन स्वीडन में 15 साल की उम्र तक हेलमेट पहनना अनिवार्य है. वहां ज्यादातर वयस्क भी हेलमेट पहनकर ही साइकल चलाते हैं. बस सवाल यही है कि 445 डॉलर के बदले स्टाइल और सुरक्षा खरीदने में कितने लोग दिलचस्पी दिखाएंगे.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः ए कुमार

DW.COM

WWW-Links