1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

सिप्रास के इस्तीफे के बाद मध्यावधि चुनाव के आसार

ग्रीस के प्रधानमंत्री पद से त्यागपत्र देने के बाद अलेक्सिस सिप्रास विरोधियों का मुंह बंद करने के लिए बड़ा जनादेश चाहते हैं. कर्ज की पहली खेप मिलने के तुरंत बाद ही वामपंथी नेता ने मध्यावधि चुनाव की स्थिति पैदा कर दी है.

बेलआउट डील को पहले ग्रीक और फिर जर्मन संसद में मंजूरी मिलने के तुरंत बाद सिप्रास ने प्रधानमंत्री पद से इस्तीफे की घोषणा कर दी. यूरोजोन के नेताओं के साथ ग्रीस के लिए तय हुए बेलआउट कार्यक्रम पर सिप्रास की सीरिजा पार्टी के ही कुछ नेता कड़ा विरोध जताते रहे हैं. मध्यावधि चुनावों के लिए अभी किसी तारीख की घोषणा नहीं हुई है लेकिन चुनाव 20 सितंबर को कराए जाने की संभावना है.

करीब आठ महीनों से सरकार चला रहे 41 वर्षीय सिप्रास ने टेलिविजन पर आकर देश को दिए संदेश में कहा कि उन्होंने अपने देश को सर्वोत्तम बेलआउट पैकेज दिलाने के लिए कड़ी मेहनत की है. सिप्रास ने ग्रीक जनता से एक साफ जनादेश देने की अपील की ताकि वे संसद में बहुमत में चुन कर आएं. सिप्रास ने राष्ट्रपति प्रोकोपिस पाव्लोपूलोस को आधिकारिक रूप से अपना इस्तीफा सौंपने से पहले अपने संदेश में कहा, "अब यह मुश्किल प्रक्रिया अपने अंत की ओर आ चुकी है. मैं इसे अपना नैतिक और राजनीतिक कर्तव्य समझता हूं कि हमारे किए पर निर्णय लेने का काम आप लोगों पर छोड़ दूं."

नए चुनाव होने तक ग्रीस में एक अंतरिम सरकार होगी. सिप्रास की पद छोड़ने की घोषणा उसी दिन आई जब कर्ज तले दबे ग्रीस को बेलाउट पैकेज की पहली खेप के रूप में 13 अरब यूरो की रकम मिली. जुलाई में ग्रीस को अगले तीन सालों तक 86 अरब यूरो का राहत पैकेज दिए जाने पर सहमति बनी थी.

अब आगे की प्रक्रिया के लिए ग्रीक राष्ट्रपति पहले विपक्षी दल के नेताओं से नई सरकार बनाने को कहेंगे, लेकिन विपक्षी दलों के एकजुट होकर सरकार बनाने की संभावना बहुत कम है. अगर ऐसा नहीं हो पाता है तो संसद को भंग करना पड़ेगा और नए चुनाव कराने होंगे. इस तरह आर्थिक संकट के बीच बीते छह सालों में ग्रीस में पांचवे आम चुनावों की संभावना बनती दिख रही है. कई विशेषज्ञ नए चुनावों में सिप्रास के भारी बहुमत से जीतने की संभावना जता रहे हैं. सिप्रास के लौटने पर यूरो का विरोध और पुरानी ग्रीक मुद्रा ड्राख्मा पर लौटने का समर्थन करने वाले सीरिजा पार्टी के कई नेताओं के पार्टी छोड़ने की संभावना है.

ग्रीक बैंकों में जून से शुरु हुआ कड़ा मुद्रा नियंत्रण अभी भी जरी है. ग्रीक लोग हर महीने अधिकतम 500 यूरो की रकम ही देश के बाहर भेज सकते हैं. हर हफ्ते भी वे एक सीमा में ही धन निकाल सकते हैं. ग्रीक कंपनियों को विदेशों में अपने सप्लायरों को भुगतान करने में एक लंबी प्रक्रिया से गुजरना पड़ रहा है.

कई यूरोपीय कर्जदाता सिप्रास के इस कदम से आश्चर्यचकित नहीं हैं. लेकिन क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज ने एक वक्तव्य जारी कर चेतावनी दी है कि मध्यावधि चुनाव "संभवत: भविष्य के भुगतान (राहत कर्ज) को खतरे में डाल सकते हैं." सिप्रास ने तुर्की के वामपंथी विचारधारा वाले कवि नाजिम हिकमेत का एक उद्धरण देते हुए बोले, "सबसे अच्छे दिन जिए जाना अभी बाकी है."

आरआर/एमजे (एपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री