1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

सिटीबैंक घपलाः सीईओ से पूछताछ नहीं

सिटीबैंक की गुड़गांव शाखा में हुए 300 करोड़ रुपये के घपले की जांच भारतीय रिजर्व बैंक कर रहा है. उधर पुलिस ने कहा है कि इस मामले में सिटीबैंक के ग्लोबल सीईओ विक्रम पंडित से पूछताछ की कोई संभावना नहीं है.

default

रिजर्व बैंक एक सूत्र ने बताया, "आईबीआई इस मामले की छानबीन कर रही है." सिटी बैंक की गुड़गांव ब्रांच में एक कर्मचारी ने हेराफेरी कर शेयर बाजार में लगाने के लिए कई अमीर ग्राहकों के खाते से अरबों रुपये निकाल लिए. पिछले हफ्ते सामने आए इस घोटाले के शिकार हुए लोगों में भारत की सबसे बड़ी साइकल निर्माता कंपनी हीरो के प्रमोटर भी शामिल हैं. इन लोगों को बैंक के रिलेशनशिप मैनेजर शिवराज पुरी ने कम समय में अधिक मुनाफे का लालच दिया. इस धोखाधड़ी का शिकार होने वाले लोगों का कहना है कि उनकी जानकारी के बिना ही उनके खातों से पैसा निकाल लिया गया.

Reserve Bank of India in Mumbai

हेलीगन अडवाइजर्स के मैनेजिंग डायरेक्टर संजीव अग्रवाल ने मंगलवार को एक एफआईआर दर्ज कराई जिसके मुताबिक उनके जीवन भर की कमाई 32.43 करोड़ रुपये उनसे ठग ली गई है. बैंक के सीनियर अधिकारियों के अलावा अग्रवाल ने अपनी शिकायत में भारतीय मूल के सिटीबैंक के ग्लोबल सीईओ विक्रम पंडित और चेयरमैन विलियम आर रोड्स का नाम भी दिया है. इस एफआईआर में बैंक अधिकारियों पर भरोसे के आपराधिक उल्लंघन, खातों की हेराफेरी और धोखाधड़ी की आपराधिक साजिश रचने का आरोप लगाया है. वहीं सिटीबैंक ने इस घोटाले में अपने वरिष्ठ अधिकारियों के शामिल होने से इनकार किया है.

वैसे स्थानीय पुलिस ने बुधवार को इस मामले में विक्रम पंडित से पूछताछ की संभावना से इनकार किया. गुड़गांव के पुलिस कमिश्नर एसएस देसवाल ने कहा, "फिलहाल इस मामले में ग्लोबल सीईओ के शामिल होने की बात दूर की बात लगती है." लेकिन पुलिस गुड़गांव ब्रांच के कर्मचारियों से पूछताछ करेगी. देसवाल ने बताया, "हम अग्रवाल की शिकायत और बैंक की ओर से दी गई जानकारी को जांच रहे हैं."

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः एन रंजन

DW.COM

WWW-Links