1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

सिगरेट से ज्यादा खतरनाक मोटापा

ज्यादा मोटापा सिर्फ देखने में ही बुरा नहीं लगता, बल्कि अपने साथ कई ऐसी बीमारियां लाता है जो आपकी जिंदगी छोटी कर सकती हैं. पक्षाघात जैसी कई बीमारियों के कारण मोटापे को जिंदगी के लिए सिगरेट से ज्यादा खतरनाक माना जा रहा है.

साइंस की प्लोस पत्रिका में छपी रिपोर्ट इस दिशा में अब तक के सबसे विस्तृत शोध पर आधारित बताई जा रही है. इसके मुताबिक अगर किसी औसत कद के व्यक्ति का वजन सामान्य से करीब 45 किलो या उससे ज्यादा है तो उसकी उम्र सामान्य वजन वाले व्यक्ति के मुकाबले 6.5 से 13.7 साल तक कम हो सकती है.

यह शोध 20 अन्य अध्ययनों पर आधारित है जिनमें अमेरिका, स्वीडन और ऑस्ट्रेलिया के लोगों के आंकड़े शामिल किए गए. शोध में 9,564 मोटापे के शिकार और 3,04,011 सामान्य वजन वाले लोगों को शामिल किया गया.

खतरे की घंटी

किसी व्यक्ति को मोटापे की श्रेणी में तब माना जाता है जब उसका बॉडी मास इंडेक्स बीएमआई 30 या उससे ज्यादा हो. रिसर्चरों ने पाया कि जैसे जैसे बीएमआई बढ़ता गया, दिल की बीमारी, कैंसर या डायबिटीज के कारण मौत का खतरा भी बढ़ गया.

जिन लोगों का बीएमआई 40 से 44.9 के बीच था उन्हें सामान्य से 6.5 साल कम जीवन मिला. 45 से 49.9 बीएमआई वालों का जीवन 8.9 साल कम, 50 से 54.9 वालों का 9.8 साल और 55 से 59.9 वालों का 13.7 साल कम पाया गया. जबकि सामान्य वजन वाले लोग जो सिगरेट पीते हैं उनका जीवन स्वस्थ्य व्यक्ति के औसत जीवन से करीब 8.9 साल कम पाया गया.

गरीब देशों का हाल

रिसर्चर अब तक यह पता नहीं कर पाए हैं कि क्या गरीब देशों के बारे में भी यह बातें ठीक वैसी ही साबित होंगी जैसी पश्चिमी देशों में. वे यह भी जानना चाहते हैं कि क्या कम मोटापे से भी जीवन अवधि प्रभावित होती है. बहुत ज्यादा मोटापा आधुनिक जीवनशैली की देन है, पहले यह बीमारी इतनी आम नहीं थी इसलिए जीवन पर इसके प्रभावों के बारे में विस्तृत जानकारी नहीं थी.

दुनिया भर की करीब 30 फीसदी आबादी सामान्य से ज्यादा वजन की या मोटापे की शिकार है. अमेरिका में करीब 36 फीसदी लोग मोटापे का शिकार हैं. 1980 से अब तक 40 या उससे ज्यादा बीएमआई के मामलों में चार गुना वृद्धि हुई है. अमेरिका में हर 16वां वयस्क बहुत बुरी तरह मोटापे से ग्रस्त है.

एसएफ/आईबी (रॉयटर्स)

DW.COM