1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

साहिर लुधियानवी और अमृता प्रीतम की प्रेम कहानी

शायरी और नगमों के अलावा साहिर के कई किस्से भी मशहूर हैं. मशहूर लेखिका अमृता प्रीतम और उनकी प्रेम कहानी भी इन्हीं में से एक है.

मशहूर शायर साहिर लुधियानवी ने 59 बरस की उम्र में 1980 में दुनिया को अलविदा कहा था. लेकिन उनके नगमे आज भी उतने ही ताजा और बामायना नजर आते हैं. उनकी शायरी और नगमों के अलावा कई किस्से भी मशहूर हैं. मशहूर लेखिका अमृता प्रीतम और उनकी प्रेम कहानी भी इन्हीं में से एक है.

25 साल की शादी के बावजूद अमृता को साहिर से प्यार हो गया. हालांकि कई लोगों ने इसे एकतरफा प्यार का नाम दिया. वहीं कुछ लोगों का कहना है कि साहिर के गीत अमृता प्रीतम की मोहब्बत में ही लिखे गए थे. सच जो भी हो, लेकिन साहिर ने हिंदी सिनेमा को बहुत से अनमोल गीत दिए. 1963 में आई ताजमहल के लिए उन्हें फिल्म फेयर अवॉर्ड से नवाजा गया. इसके बाद 1976 में उन्होंने कभी कभी के गीत मैं पल दो पल का शायर हूं के लिए भी फिल्म फेयर जीता.