1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

सावधान नहीं है इंटरनेट यूजर

इंटरनेट यूजर पासवर्ड चुनते समय सावधानी नहीं दिखाते, जबकि डाटा के बढ़ते महत्व को देखते हुए यह जरूरी होता जा रहा है. तीस फीसदी लोग लगातार छह या उससे भी कम कैरेक्टर का इस्तेमाल करते हैं.

आज सुरक्षित इंटरनेट दिवस मनाया जा रहा है. जर्मनी में सेफर इंटरनेट डे के मौके पर स्कूलों, कॉलेजों और अन्य स्थानों पर सभाओं और गोष्ठियों का आयोजन होता है जिनमें बच्चों, युवाओं, माता-पिताओं और शिक्षकों को इंटरनेट की सुरक्षा से संबंधित जानकारी दी जाती है और इंटरनेट के सुरक्षित, सम्मानजनक तथा कानून सम्मत इस्तेमाल से परिचित भी कराया जाता है. नॉर्टन सिक्योरिटी सॉफ्टवेयर का कहना है कि हर साल इस दिन का इस्तेमाल इंटरनेट और स्मार्ट फोन के खतरों पर ध्यान दिलाने के लिए किया जाता है.

इस मौके पर पोट्सडाम के हासो प्लाटनर इंस्टीट्यूट के प्रोफेसर क्रिस्टॉफ माइनेल का कहना है कि छह अक्षर से कम वाले पासवर्ड सुरक्षित इंटरनेट के लिए अब काफी नहीं हैं. उनका कहना है कि पासवर्ड के चयन में अधिक सावधानी दिखाने की जरूरत है.

जर्मनी में हुए सर्वे के अनुसार 60 फीसदी यूजर कुछ चुने हुए शब्दों और अंकों का ही इस्तेमाल करते हैं. विश्व भर में सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला पासवर्ड "123456" है. उसके बाद "12345" और "123456789" का नंबर आता है. हैकर के लिए इस तरह के पासवर्ड को समझना और यूजर के अकाउंट में घुसना मुश्किल नहीं है. इस तरह के पासवर्ड का पता करने के लिए हैकर को 100 प्रयास ही काफी हैं. वे 17 मिनट में इस तरह के कम सुरक्षा वाले 1000 अकाउंट खोल सकते हैं.

अंतरराष्ट्रीय पैमाने पर हुई जांच से पता चलता है कि पिछले दो सालों में पासवर्ड के मामले में सावधानी बेहतर नहीं हुई है. अब भी आदे से ज्यादा यूजर लॉग-इन के लिए ऐसे ही पासवर्ड को चुनते हैं. सेफर इंटरनेट डे के मौके पर हासो प्लाटनर इंस्टीट्यूट ने लोगों से पासवर्ड चुनते समय अधिक सावधानी दिखाने और पासवर्ड की जगह असली नाम और जन्मदिन का इस्तेमाल न करने की सलाह दी है. पासवर्ड में कम से कम आठ कैरेक्टर होने चाहिए और उन्हें अक्षर और अंकों को मिलाकर बनाना चाहिए.

इंटरनेट तकनीकी के प्रोफेसर और इंस्टीट्यूट के निदेशक माइनेल का कहना है कि आईटी छात्रों के प्रशिक्षण के समय उन्हें बताया जाता है कि सुरक्षित पासवर्ड के लिए पांच बातों का ध्यान रखा जाना चाहिए. यूजर से जुड़े नाम, जन्मदिन या और किसी सूचना का इस्तेमाल न किया जाए. शब्दकोष के शब्दों से बचें. कम से कम चार प्रकार के लेखन के तरीकों, बड़े और छोटे अक्षर, अंकों और प्रतीकों का इस्तेमाल करें. कम से कम आठ कैरेक्टर चुनें. और सभी अकाउंट के लिए एक पासवर्ड का इस्तेमाल न करें.

इंटरनेट का इस्तेमाल बढ़ रहा है और इसके साथ अलग अलग जगह अकाउंट खोलने की जरूरत भी. ऐसे में ऐसा पासवर्ड कैसे चुनें जो याद भी रहे. इंटरनेट विशेषज्ञ प्रोफेसर पासवर्ड के रूप में ऐसा वाक्य बनाने की सलाह देते हैं जिसमें बड़े और छोटे अक्षरों के अलावा अंक और प्रतीक चिह्न शामिल हों. इस वाक्य के पहले अक्षरों और अंकों को लेकर पासवर्ड बनाया जा सकता है जो याद भी रहेगा और जिसका पता करना मुश्किल होगा.

कई अकाउंट के लिए पासवर्ड याद रखने के लिए हासो प्लाटनर इंस्टीट्यूट के निदेशक प्रोफेसर माइनेल उन्हें याद रखने वाला संकेत कहीं लिखकर रखने की सलाह देते हैं. पासवर्ड लिखना ज्यादा सुरक्षित नहीं है, इसलिए पासवर्ड के वाक्य की याद दिलाने वाला संकेत लिखना अत्यंत सुरक्षित होगा. हासो प्लाटनर इंस्टीट्यूट जर्मनी का एकमात्र ऐसा संस्थान है जो आईटी सिस्टम इंजीनियरिंग में बैचलर और मास्टर का प्रशिक्षण देता है.

जर्मनी की केंद्रीय और प्रांतीय सरकार उद्यमों के साथ मिलकर सुरक्षित ऑनलाइन प्रोजेक्ट चला रही है, जिसका लक्ष्य इंटरनेट में बच्चों के लिए सुरक्षित माहौल तैयार करना है. यह प्रोजेक्ट दो साल से चल रहा है और इसे अगले साल भी जारी रखा जाएगा ताकि बच्चे और उनके माता पिता इंटरनेट के सुरक्षित इस्तेमाल के तरीके सीख सकें. जर्मनी के 50 गैर सरकारी रेडियो स्टेशन इस परियोजना का समर्थन कर रहे हैं.

रिपोर्ट: महेश झा

संपादन: आभा मोंढे

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री