1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

सार्वजनिक सेक्स पर ब्रिटेन में हंगामा

विश्व के अनेक देशों में, खासकर पश्चिम में समाज काफी उदार हो चुका है - यौन व्यवहार के मामले में भी. ब्रिटेन में उभरे एक विवाद से यह सवाल सामने आ रहा है कि क्या उसकी भी कोई हद होनी चाहिए.

default

डॉगिंग शब्द डॉग से आया है, आम तौर पर इसका मतलब है कुत्ते को टहलाने ले जाना. चालू भाषा में इसका अर्थ अब कुछ दूसरा है. डॉगर ऐसे लोग हैं, जो पार्क या जंगलों में सार्वजनिक रूप से सेक्स में रुचि रखते हैं, या ऐसे लोग जो ऐसे जोड़ों को देखना पसंद करते हैं.

ब्रिटेन में ऐसा करना कानून की हद पर है. लोगों की सेक्स लाइफ पर तो पाबंदी नहीं है, लेकिन नागरिक शालीनता की अवहेलना कानून के दायरे में आ सकती है. आम तौर पर डॉगरों को बर्दाश्त किया जाता रहा है, लेकिन इस बीच विवाद उभरते जा रहे हैं. इसका मुख्य कारण यह है कि डॉगिंग के शौकीन जोड़े शहर से दूर छोटे कस्बों के पास जंगलों में जाते हैं, और इन कस्बों में रहने वालों के लिए यह एक समस्या बनती जा रही है. ख़ासकर वे अपने बच्चों की वजह से परेशान हैं, क्योंकि ऐसे दृश्य उनकी नजर में भी आते हैं.

Deutscher Filmpreis Nominierung: Wer früher stirbt ist länger tot

स्थानीय निकायों की ओर से पुलिस की गश्त बढ़ा दी गई है, ताकि ऐसे लोगों को निरुत्साहित किया जा सके. गाड़ियों को सड़क के किनारे खड़ी करने पर पाबंदी लगाई जा रही है, ताकि कम से कम ट्रैफिक नियमों की अवहेलना का ठोस आरोप लगाया जा सके. कुछ कस्बों में खासकर बच्चों वाले परिवारों के माता पिता इसके खिलाफ नागरिक अभियान शुरू कर चुके हैं.

डॉगिंग के खिलाफ उठाए जाने वाले कदमों से पर्यावरण पर भी बोझ पड़ रहा है. कई जगह पेड़ काटे गए हैं, झाड़ियां साफ कर दी गई हैं, ताकि इलाका खुला दिखे, और ऐसे लोग न आएं. लेकिन सोशल नेटवर्किंग के चलते डॉगरों की संभावनाएं भी बढ़ी हैं, उनकी संख्या बढ़ती दिख रही है.

और वैरिंगटन के स्थानीय निकाय ने तो कंक्रीट की दीवार से अपने इलाके के जंगल को घेर रखा है. नतीजा? डॉगर दूसरे इलाकों में जा रहे हैं. सवाल उठ रहा है कि क्या यौन उदारता के चलते सारा ब्रिटेन बैरकों में बदल जाएगा?

रिपोर्ट: एजेंसिया/उभ

संपादन: महेश झा

DW.COM