1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

सामने कोई हो, हम खेलेंगेः ब्रॉड

पाकिस्तानी खिलाड़ियों पर लगे मैच फिक्सिंग के आरोपों के बावजूद इंग्लैंड के खिलाड़ी उनके साथ खेलना चाहते हैं. ग्रेम स्वान और स्टुअर्ट ब्रॉड ने कहा है कि दोनों देशों के बीच वन डे सीरीज को नहीं रोका जाना चाहिए.

default

नॉटिंगमशर के दोनों गेंदबाजों ने कहा कि इंग्लैंड और पाकिस्तान के बीच दो टी20 मैच और पांच वनडे मैचों की सीरीज होनी ही चाहिए. तेज गेंदबाज ब्रॉड ने अखबार डेली मेल में लिखा है, "इस खबर पर इंग्लैंड के खिलाड़ी अब भी सदमे की सी स्थिति में हैं, लेकिन जहां तक मेरा मानना है वन डे सीरीज होनी चाहिए. ऐसे मौके पर हमें इसे रद्द नहीं करना चाहिए जबकि जांच जारी है. हम खेलना चाहते हैं. और फिर उनक लोगों का क्या, जिन्होंने टिकट खरीदे हैं?"

ब्रॉड ने लिखा है कि इस बात का फैसला तो कुछ और लोगों को करना है कि आरोपी खिलाड़ियों को खेलना चाहिए या नहीं, लेकिन हमारे सामने जो भी होगा, हम पूरी जान लड़ाकर खेलेंगे. और उम्मीद करते हैं कि विपक्षी टीम भी पूरी ताकत के साथ खेलेगी.

चौथे टेस्ट में अपने करियर की पहली टेस्ट सेंचुरी बनाने वाले ब्रॉड ने फिक्सिंग के आरोपों के बीच मैच जीतने के हालात पर लिखा है, "जब हमने खिलाड़ियों से हाथ मिलाए, और ऐसा किसी को नहीं कहा गया था कि हाथ नहीं मिलाने हैं, तब हमने सामान्य बातें ही कहीं. हालांकि तब उस जोश के साथ जीत का जश्न मनाना थोड़ा गलत लगा, जिस तरह हम आमतौर पर मनाते हैं."

सीरीज जारी रखने की बात स्पिनर ग्रेम स्वान ने भी कही है. उन्हें द सन अखबार में लिखा है, "एक खिलाड़ी के रूप में मैं वन डे क्रिकेट को बहुत पसंद करता हूं. और जब कुछ साबित नहीं हुआ है तो मुझे इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि मुझे किसके सामने खेलना है."

31 साल के फिरकी गेंदबाज ने कहा, "मेरी तो सबसे बड़ी इच्छा यही है कि क्रिकेट अखबारों में सही वजहों से छपने लगे. किसी अद्भुत सेंचुरी के लिए या फिर शानदार गेंदबाजी के लिए."

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः एन रंजन

DW.COM