1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

सात सेकेंड पहले सब ठीक था

शनिवार को सैन फ्रैंसिस्को के विमान हादसे में ज्यादा लोगों की जान नहीं गई लेकिन सब कुछ ठीक होने के बावजूद हुए हादसे ने चिंता बढ़ाई है. अब तक हादसे की वजह के बारे में कुछ भी पता नहीं चल सका है.

पहली बार हादसे का शिकार हुए बोइंग 777 जेटलाइनर से कंपनी को ज्यादा झटका नहीं लगा है क्योंकि इसकी डिजाइन के कारण आग फैल नहीं पाई और हवाई जहाज भी नहीं टूटा. अगर आग फैल जाती तो ज्यादा लोगों की जान जाने का खतरा था. सैन फ्रांसिस्को में हुए हादसे के बाद अब तक की जांच में किसी यांत्रिक गड़बड़ी का पता नहीं चला है.

नेशनल ट्रांसपोर्टेशन सेफ्टी बोर्ड के प्रमुख डेबोरा हर्समैन का कहना है कि विमान के उतरते समय यह चेतावनी आई कि जेटलाइनर रुक सकता है और तब लैंडिंग टालने की कोशिश की गई लेकिन उसके एक ही सेकेंड बाद विमान टकरा गया. डेबोरा हर्समैन ने पत्रकारों को बताया कि विमान, उतरने की गति 137 प्रति घंटे से काफी कम गति में था और, "हम सिर्फ कुछ नॉट्स की बात नहीं कर रहे." अधिकारी इस बात की भी जांच कर रहे हैं कि कहीं विमान या एयरपोर्ट के किसी उपकरण में तो खराबी नहीं थी. (ड्रीमलाइनर में खतरे की घंटी)

विमान ने शंघाई से उड़ान भरी और 11 घंटे की सैन फ्रांसिस्कों की उडा़न से पहले सियोल में रुका. सैन फ्रांसिस्को के एयरपोर्ट पर अकसर कोहरे की वजह से विमान उतारना मुश्किल होता है लेकिन शनिवार को मौसम बहुत अच्छा था, साफ आसमान में चमकता सूरज और हल्की हवाएं. विमान के यात्रियों में चीन, दक्षिण कोरिया, अमेरिका, कनाडा, भारत, जापान, वियतनाम और फ्रांस के नागरिक थे. इनमें 70 चीन छात्रों का एक दल भी था जो समर कैंप के लिए जा रहा था.

हादसे में दो लोगों की जान गई जबकि 180 लोग घायल हुए. हादसे के बाद जल्द से जल्द यात्रियों को विमान से दूर ले जाने की आपाधापी में दो किशोरों की जान गई. इन लोगों की मौत के कारणों की भी जांच की जा रही है. पुलिस अधिकारियों ने क्रू के सदस्यों को चाकू दिए ताकि वो यात्रियों के सीट बेल्ट काट कर उन्हें बाहर निकाल सकें. यात्री आपातकालीन दरवाजों से कूद कूद कर भागे.

हादसे से सात सेकेंड पहले तक सब कुछ ठीक था. दक्षिण कोरिया की एयरलाईन एशियाना का विमान लैंड करने ही वाला था कि पायलट को उसकी गति जरूरत से कम महसूस हुई. पायलट ने गति बढ़ाई तो सब सामान्य ही था. कंट्रोल टावर को किसी पायलट ने किसी गड़बड़ी के बारे में नहीं बताया था. इतना जरूर है कि यह पायलट पहली बार सैंन फ्रांसिस्को एयरपोर्ट पर बोइंग 777 को उतार रहा था. गति जरूरत से कम होने पर उसने लैंडिंग टालने की भी सोची लेकिन तब तक देर हो चुकी थी. अभी यह साफ नहीं है कि विमान और एयरपोर्ट से परिचित न होना ही हादसे की वजह तो नहीं बन गया.

एशियाना की प्रवक्ता ली ह्योमिन ने बताया कि विमान के पायलट ली गांग युक के पास 10 हजार घंटे की उड़ान का अनुभव है लेकिन बोइंग 777 उन्होंने केवल 43 घंटे ही उड़ाया है. ह्योमिन के मुताबिक वह अभी इस विमान को उड़ाने का अनुभव ले रहे हैं. उनके साथी पायलट ली जेओंग मिन के पास जरूर इसे तीन हजार से ज्यादा घंटों तक उड़ाने के अनुभव है. जेओंग मिन ली, गांग युक को 777 से परिचित होने में मदद कर रहे हैं. एयरलाइन के मुताबिक विमान में चार पायलट थे जिनमें तीन तीन को "दक्ष" बताया गया है.

एनआर/एएम (रॉयटर्स, एएफपी)

DW.COM