1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

सांप्रदायिकता खतरनाक हैः सोनिया गांधी

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा है कि सांप्रदायिकता हर रूप में खतरनाक है चाहे वो अल्पसंख्यकों की हो या बहुसंख्यकों की और इसे हर हाल में हराया जाना चाहिए.

default

कांग्रेस कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए सोनिया गांधी ने ज्यादातर समय राहुल गांधी के हिंदु कट्टरपंथियों को लश्कर ए तैयबा से खतरनाक बताने वाले बयानों पर उठे विवाद और भ्रष्टाचार के मसले पर बात की. सोनिया गांधी ने कहा," कांग्रेस पार्टी ऐसे बहुसंख्यक और अल्पसंख्यक सांप्रदायिक संगठनों के बीच अंतर नहीं मानती जो आतंकवादी गतिविधियों में शामिल हैं. ये सब खतरनाक हैं और इन्हें दबाया जाना चाहिए."

सोनिया गांधी ने दावा किया कि कांग्रेस ने हमेशा से सभी तरह की सांप्रदायिकता के खिलाफ जंग लड़ी है और पार्टी को इस बात से फर्क नहीं पड़ता कि उसका स्रोत क्या है. सोनिया गांधी ने कहा "सांप्रदायिकता धर्म के नाम पर तुच्छ राजनीति है.ये धर्म का दुरुपयोग है जो घृणा और कट्टरता फैलाती है, धर्म का इस्तेमाल लोग समाज के ध्रुवीकरण के लिए कर रहे हैं और इसके जरिए हमें बांटा जा रहा है."

Wahlen Indien 2009 Rahul Gandhi

भगवा ताकतों पर सीधे हमला करते हुए सोनिया गांधी ने कहा देश उन लोगों, संस्थाओं और विचारों की कभी अनदेखी नहीं करेगा जो इतिहास को गलत तरीके से पेश करते हैं और धार्मिक पूर्वाग्रह फैलाकर धर्म की आड़ में हिंसा करते हैं.

सोनिया गांधी का भगवा ब्रिगेड पर ये हमला राहुल गांधी के बयानों पर उठे विवाद के नुकसान को कम करने की कोशिश के रूप में देखा जा रहा है.राहुल गाधी के बयानों पर बीजेपी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने उनके खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. सोनिया इन्हीं हमलों का जवाब दे रही थीं. कांग्रेस पार्टी ने इस बारे में एक प्रस्ताव भी पास किया जिसमें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और उससे जुड़े संगठनों हाल के दिनों में सामने आए कुछ आतंकवादी घटनाओं में शामिल होने की जांच करने की बात कही गई है. प्रस्ताव पार्टी के वरिष्ठ नेता प्रणब मुखर्जी ने पेश किया जिसका पार्टी महासचिव दिग्विजय सिंह और राहुल गांधी ने समर्थन किया.

प्रस्ताव में कहा गया है कि देश की सुरक्षा को धार्मिक कट्टरपंथी गुटों से खतरे की अब और अनदेखी नहीं की जा सकती और इस पर पार्टी की बैठक में पांच घंटे तक चर्चा की गई.सोनिया गांधी के नेतृत्व में पार्टी के नेताओं ने संघ परिवार हमला बोल दिया है. प्रणब मुखर्जी ने पुणे और दूसरी जगहों पर हुए बम धमाकों के पीछे दक्षिणपंथी संगठनों से जुड़े लोगों के होने की बात कही. कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने तो ये भी कहा कि बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी की रथयात्रा ने हिंदु और मुसलमानों के बीच दीवार खड़ी की जो देश में मौजूद आतंकवाद की वजह है.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः एस गौड़

DW.COM

WWW-Links