1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

सस्ता आईफोन उतारेगा एप्पल

शानदार पर महंगा. एप्पल प्रोडक्ट की पहचान इन्हीं दो शब्दों से होती है. लेकिन आईफोन की कामयाबी के बाद अब एप्पल सस्ता आईफोन उतारने की सोच रहा है. इससे दूसरी कंपनियों से मिल रहे मुकाबले को झेला जा सकता है.

आईफोन और आईपैड बनाने वाली कंपनी एप्पल ने अभी खुद इस बात की पुष्टि नहीं की है. लेकिन अमेरिकी मीडिया में इस तरह की खबरें आ रही हैं. इलेक्ट्रॉनिक उद्योग की सप्लाई पर रिपोर्टिंग करने वाली डिजीटाइम डॉट कॉम का कहना है कि एप्पल ने कम खर्चीले पुर्जों के साथ सस्ता आईफोन तैयार कर लिया है और इसी साल उसे बाजार में उतारा जा सकता है.

बाद में वॉल स्ट्रीट जर्नल ने इस बात की पुष्टि की और कहा कि उसने ऐसे लोगों से बात की है, जो इस प्रोजेक्ट पर काम कर रहे हैं. रिपोर्टों के मुताबिक नए फोन का स्क्रीन बड़ा होगा.

अगर एप्पल ऐसा करता है तो यह उसकी मूल नीति से बिलकुल उलट होगा. एप्पल हमेशा से महंगे और प्रीमियम क्लास के प्रोडक्ट बनाता आया है और उसकी पहचान भी इसी से होती है. अगर वह ऐसा करता है, तो इसका मतलब यह प्रतिद्वंद्वियों के दबाव में उठाया गया कदम होगा.

तकनीक और स्मार्ट फोन के जानकारों का कहना है कि सैमसंग से चल रहे मुकाबले की वजह से एप्पल ऐसा कदम उठा सकता है. उनका कहना है कि "सैमसंग और एप्पल का जबरदस्त झगड़ा है. सैमसंग के फोन सस्ते हैं. ऐसे में अगर एप्पल सस्ता फोन उतार देता है, तो सैमसंग को खासी मुश्किल हो सकती है."

सैमसंग दुनिया में सबसे ज्यादा स्मार्टफोन बेचने वाली कंपनी है. पिछले साल इसने एप्पल के बाजार के एक बड़े हिस्से पर कब्जा कर लिया और मोबाइल इंडस्ट्री में पहले नंबर पर पहुंच गई. समझा जाता है कि मोबाइल बाजार का 30 फीसदी से ज्यादा हिस्सा सैमसंग के खाते में है.

एप्पल समझता है कि दुनिया की सबसे ज्यादा आबादी वाले देश चीन में उसका बड़ा बाजार तैयार हो सकता है. लेकिन वहां हर कोई ज्यादा पैसे खर्च करने को तैयार नहीं है. गूगल के एंड्रायड तकनीक के साथ मिल कर बनाए जा रहे स्मार्टफोन चीन और भारत में बेहद लोकप्रिय हैं.

अगर एप्पल के इस कदम से आईफोन इस्तेमाल करने वालों की संख्या बढ़ती है, तो फिर इसके एप खरीदने वालों की संख्या भी बढ़ सकती है. एप्पल पहले ही कम दाम वाला मिनी आईपैड बाजार में उतार चुका है.

एजेए/ओएसजे (एएफपी)

DW.COM