1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

वर्ल्ड कप

समस्याएं दूर होंगी, गेम्स सफल होंगेः हूपर

कॉमनवेल्थ गेम्स फेडरेशन ने संकेत दिया है कि दिल्ली में होने वाले खेलों से पहले सभी परेशानियां दूर हो जाएंगी और खेल जरूर होंगे. इस बीच प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने खेलों पर आपात बैठक बुलाई, जबकि सफाई का काम तेज किया गया.

default

कॉमनवेल्थ गेम्स फेडरेशन के मुख्य कार्यकारी माइक हूपर ने कहा, "काफी काम हुआ है और अभी कुछ और किया जाना बाकी है." गेम्स शुरू होने में सिर्फ 10 दिन बचे हैं और हूपर कहते हैं कि वहां काम तेज कर दिया गया है.

कॉमनवेल्थ फेडरेशन के अध्यक्ष के दिल्ली पहुंचने से ठीक पहले हूपर ने कहा, "हम समस्याओं को दूर करने की कोशिश कर रहे हैं. मुझे लगता है कि गेम्स जरूर होंगे. हम सरकार के उच्च स्तर पर बात कर रहे हैं." फेडरेशन के एक सूत्र का कहना है कि अब शिकायतों की जगह समस्याओं को दूर करने की कोशिश की जा रही है और कॉमनवेल्थ गेम्स टलने के कोई आसार नहीं हैं.

कई देशों ने खेलों की बदइंतजामी की वजह से अपनी टीमों की रवानगी टाल दी है. वे अपनी टीमें बाद में भेजेंगे. लेकिन मलेशिया की टीम सबसे पहले भारत पहुंच रही है. कई विश्वस्तरीय खिलाड़ियों और एथलीटों ने दिल्ली में हो रहे कॉमनवेल्थ गेम्स को न कह दिया है, जबकि कनाडा के बाद न्यूजीलैंड ने कहा है कि वह अपनी टीम बाद में भेजेगा.

Indien Flash-Galerie Commonwealth Games Maskott

भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इन खेलों की तैयारियों में हस्तक्षेप करते हुए इसका जायजा लिया है. दिल्ली में तीन से 14 अक्तूबर के बीच कॉमनवेल्थ गेम्स होने हैं और भारत इस मौके को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आर्थिक फायदे के लिए इस्तेमाल करना चाहता था. लेकिन भ्रष्टाचार, सुरक्षा और खराब इंतजामों की वजह से उसकी थू थू हो रही है.

प्रधानमंत्री निवास पर खेल मंत्री एमएस गिल और शहरी विकास मंत्री जयपाल रेड्डी को बैठक के लिए बुलाया गया है. प्रधानमंत्री कार्यालय का कहना है कि इन दोनों से सिर्फ कॉमनवेल्थ खेलों पर बातचीत की जाएगी. कॉमनवेल्थ गेम्स फेडरेशन के अध्यक्ष माइकल फेनेल दिल्ली में खेलों की तैयारी का जायजा लेंगे और वह प्रधानमंत्री से मुलाकात करना चाहते हैं.

दिल्ली खेलों के आयोजकों को तैयारियों की वजह से आरोपों से जूझना पड़ रहा है. खास तौर पर मीडिया में ऐसी तस्वीरें आ रही हैं, जिसमें खेलों की बदइंतजामी साफ झलक रही है. कुछ जगहों पर तस्वीरें जारी की गई हैं, जिनमें टूटे हुए बाथरूम, लीक करते झरने और बिस्तरों पर कुत्तों के पंजों के गंदे निशान दिख रहे हैं.

दिल्ली में कॉमनवेल्थ देशों के करीब 7000 खिलाड़ी और अधिकारी आने वाले हैं. इनमें से ज्यादातर वैसे देश हैं, जो पहले इंग्लैंड के उपनिवेश थे.

रिपोर्टः एएफपी/ए जमाल

संपादनः आभा एम

DW.COM

WWW-Links