1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

'सब सिर झुका के बात करते हैं'

दुनिया की सबसे कम कद वाली महिला भारत की ज्योति किशन आमगे जयपुर में एक पुस्तक के विमोचन के लिए पहुंची. इस दौरान डॉयचे वेले ने उनसे की खास बातचीत.

दो फीट छह इंच (62.8 सेंटीमीटर) की ज्योति आमगे दुनिया की सबसे छोटी महिला हैं. उनका इरादा है दुनिया का दिल जीतना. नागपुर में 16 दिसंबर 1993 को जन्मी ज्योति को अपने 18वें जन्म दिवस पर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में स्थान मिलेगा, ये उन्होंने कभी सपने में भी नही सोचा था. "जब पैदा हुई और होश संभाला तो पता चला कि मैं तो बहुत ही छोटी रह गई हूं. पर मेरी यह कमजोरी ही मेरी सबसे बड़ी हिम्मत बन गयी और मैंने दुनिया से सिर ऊंचा कर बात करना सीख लिया. तब मैंने महसूस किया कि हर कोई मुझ से सिर झुका कर बात कर रहा है और यही बात मुझे प्रेरणा देती गई."
अपने जीवन के सफर में ज्योति को परिवार और दोस्तों का भी बहुत प्यार मिला. वह बताती हैं, "फिलहाल मैं बारहवीं कक्षा पास कर कॉलेज में पहुंची हूं और होम साइंस में बीए कर रही हूं. कार्यक्रमों के सिलसिले में ज्यादातर बाहर रहना पढता है इसलिए पढाई के लिए बहुत कम समय मिलता है पर फिर भी कोशिश करती हूं कि पढ़ाई का नुकसान ना हो."

ज्योति आमगे के नाम दुनिया की सबसे छोटी लडकी और सबसे छोटी महिला होने का रिकॉर्ड तो है ही साथ ही दुनिया के सबसे छोटे पैर होने का कीर्तिमान भी उन्हीं के नाम है.

Die kleinste Frau Indiens

पुस्तक विमोचन के दौरान ज्योति आमगे

फिलहाल वह अपने बाल अपने कद जितने लंबे करने में जुटी हुई है. ताकि कद और बाल की बराबरी का नया रिकॉर्ड बन जाए.

पिछले साल जब वह अपने से भी छोटे कद वाले दुनिया के सबसे छोटे पुरुष, नेपाल के चन्द्र बहादुर डांगी से मिली तो उन्हें पहली बार अपने लंबे होने का अहसास हुआ .

दुनिया के सबसे लम्बे पैरों वाले ब्रहिम तकियोल्ल्हा के साथ दोस्ती को शानदार अनुभव बताती हैं.

ज्योति अपने कद को भगवान की सौगात मानती है. "जब मेरा छोटा कद ही मेरी पहचान है तो फिर शिकायत कैसी? जब मैं सब कुछ एक आम इंसान की तरह करती हूं, पढ़ती हूं, खेलती हूं, मौज मस्ती करती हूँ तो फिर मैं दुनिया से अलग कैसे हूं?" (दुनिया के सबसे लंबे नाखून)
हालांकि अक्सर लोग उनसे कई सवाल भी पूछते हैं. अपने इस अनुभव के बारे में वह कहती हैं, "दुनिया बहुत ही अच्छी है और यहां के लोग भी कमाल के हैं. पर कई बार वह मुझ से ऐसे सवाल करते हैं कि मुझे झल्लाहट होने लगती है. विशेषकर महिलाएं तो मुझे छू छू कर देखती हैं, जैसे मैं कोई अजूबा हूं. पूछती हैं कि तुम जब पैदा हुई तो भी ऐसी ही थी क्या? तुम्हारे बाल असली हैं क्या? तुम्हारे नाखून इतने सुन्दर कैसे हैं. ऐसे सवाल मुझे कई बार परेशान कर देते है पर मैं हंस कर टाल देती हूं."

Die kleinste Frau Indiens

मां रंजना के साथ

ज्योति अपने परिवार को सबसे ज्यादा अहमियत देती है. वह कहती हैं कि उनका परिवार उनका सबसे बड़ा संबल है. ज्योति की मां रंजना आम्गे कहती है कि पहले ज्योति का छोटा कद उन्हें चिंतित जरूर करता था पर अब इस छोटे कद ने उन्हें विश्व में सबसे बड़ा बना दिया है.

ज्योति के अलावा घर में सब सामान्य कद के हैं. रंजना कहती हैं "वह छोटी जरूर है पर उस ने हमें दुनिया भर में एक बहुत बड़ी पहचान दी है." ज्योति बिग बॉस के अनुभव के बारे में बताती हैं, "बिग बॉस में जब मैंने सलमान खान से पूछा कि वह शादी क्यों नहीं करते तो उन्होंने पलट कर पूछा कि मैं शादी क्यों नहीं कर रही. मेरे पास इसका कोई जवाब नहीं था. बिग बॉस के घर में रहना मुझे बहुत अच्छा लगा और जितने दिन मैं वहां रही, मुझे घर के हर सदस्य से बहुत प्यार मिला .यह अनुभव मुझे जीवन भर याद रहेगा."

ज्योति को फेसबुक सबसे ज्यादा पसंद है और वह इस पर काफी वक्त भी बिताती है. समय मिलने पर थोड़ी बहुत पेंटिंग करना भी उन्हें पसंद है. इतना ही नहीं कैरम और वीडियो गेम्स उन्हें बहुत अच्छे लगते हैं. पढ़ाई में बच्चों का विकास उनके पसंदीदा विषयों में एक है. बातचीत के आखिर में उन्होंने कहा, "हम भी दरिया हैं, हमें अपना हुनर मालूम है, जिस तरफ भी चल पड़ेंगे रास्ता हो जाएगा."

रिपोर्टः जसविंदर सहगल, जयपुर
संपादनः आभा मोंढे

DW.COM