1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

सबसे रईस चीनी को जेल की सज़ा

कभी चीन के सबसे रईस व रसूखदार उद्योगपतियों में शामिल उद्योगपति को भ्रष्टाचार के आरोप में 14 साल की सज़ा. 16 साल की उम्र में सड़क पर सामान बेचने वाले इस कारोबारी ने बीते दो दशकों में चीन की हर बड़ी कंपनी को पीछे छोड़ा था.

default

40 साल के हुआंग गुआन्ग्यू 2004, 2005 और 2008 में चीन के सबसे रईस शख्स थे लेकिन अब उन्हें जेल जाना है. सोमवार को वह रिश्वतखोरी और अन्य भ्रष्टाचार के आरोपों के दोषी करार दिए गए. पेइचिंग की अदालत ने उन्हें 14 साल की जेल सुनाई और क़रीब नौ करोड़ अमेरिकी डॉलर का जुर्माना ठोंका. हुआंग की 20 करोड़ युआन की संपत्ति सील करने का भी आदेश दिया गया है.

कई साल तक चीन के सबसे रईस व्यक्ति माने जाने वाले हुआंग करीब साढ़े छह अरब डॉलर के मालिक हैं. कुछ ही समय पहले तक वह चीन में इतने मशहूर और प्रभावशाली थे कि उन्होंने पेइचिंग ओलंपिक की मशाल दौड़ाई और कई बड़े आयोजन में शिरकत भी की.

कभी 16 साल की उम्र में पेइचिंग में सड़कों पर दौड़ते भागते हुए छोटा मोटा सामान बेचने वाले हुआंग ने 24 साल के भीतर इतना पैसा कमाया. संघर्ष के दिनों में उन्होंने गोम नाम की एक रिटेल कंपनी खोली और इतना सस्ता सामान बेचा कि कोई दूसरी कंपनियां बाज़ार में टिक ही नहीं पाई. देखते ही देखते हुआंग चीन में इतने लोकप्रिय हो गए कि बच्चे और छात्रों के सामने उन्हें आदर्श के रूप में पेश किया जाने लगा. दो दशकों के भीतर उन्होंने चीन के 200 शहरों में 1200 से ज़्यादा स्टोर खोल दिए.

China 100 Yuan Banknoten

रिश्वतखोरी के दोषी हुआंग

हुआंग जब लोकप्रियता के चरम पर पहुंचे तो ग्रहण लगना शुरू हुआ. 2008 में उन पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे. जांच में पता चला कि उन्होंने 2006 से 2008 के बीच कई सरकारी अधिकारियों को 45 लाख 60 हज़ार युआन की मोटी रिश्वत दी.

इसके बदले हुआंग चाहते थे कि उनकी गोम इलेक्ट्रिकल एपलाइंसेस होल्डिंग और पेइचिंग पेंगरन रियल स्टेट डेवलपमेंट कंपनी को अनैतिक लाभ पहुंचे. रिश्वतखोरी के चलते उन्हें 30 करोड़ युआन का ग़ैरकानूनी मुनाफ़ा भी हुआ. अभियोजन पक्ष का कहना है कि जितना भ्रष्टाचार हुआंग ने किया, उसे देखते हुए उन्हें सज़ा कम मिली है. कोर्ट के फ़ैसले के बाद शेयर बाज़ार में उनकी कंपनी के शेयरों ने भारी गोता लगाया. कंपनी का कहना है कि वह अदालत के फ़ैसले पर जल्द प्रतिक्रिया देगी.

रिपोर्ट: एजेंसियां/ओ सिंह

संपादन: महेश झा