1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

सबसे महंगे दिल्ली के खेल

तमाम परेशानियों और आरोपों के बावजूद दिल्ली के कॉमनवेल्थ गेम्स की सारी दुनिया में तारीफ की गई है, लेकिन आंकड़े यह भी बताते हैं कि ये अब तक के सबसे महंगे खेल आयोजन रहे हैं.

default

यहां तक कि दिल्ली के गेम्स के सामने ओलंपिक खेलों के आयोजन के खर्च भी फीके लगते हैं. सन 2008 के बीजिंग ओलंपिक खेलों में एक दर्जन से अधिक भवनों, आठ अस्थाई खेल स्थलों और खेलगांव के निर्माण में 280 अरब रुपये के बराबर धनराशि खर्च हुई थी. इसके अंतर्गत ग्यारह स्टेडियमों का आधुनिकीकरण भी हुआ था. जहां तक सन 2012 के लंदन ओलंपिक खेलों का सवाल है, तो 31 स्थलों के निर्माण के लिए लगभग 350 अरब रुपये के बराबर खर्च की योजना है.

और दिल्ली के कॉमनवेल्थ गेम्स के आयोजन के लिए 700 अरब रूपये खर्च किए गए. इस धनराशि से खेलगांव, त्यागराज स्टेडियम और इंदिरा गांधी स्टेडियम जैसे स्थलों के निर्माण के अलावा एक नया एयरपोर्ट टर्मिनल भी बनाया गया. इसके अलावा दिल्ली में अनेक भवनों, सड़कों और फ्लाइओवरों का निर्माण भी इसमें शामिल है. जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम और मेजर ध्यानचंद स्टेडियम जैसे पुराने स्टेडियमों को भी नया रूप दिया गया. सिर्फ जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम के आधुनिकीकरण में ही दस अरब रुपए खर्च हुए.

ये निर्माण गेम्स के बाद भी किसी हद तक काम आएंगे. लेकिन इतनी लागत से दिल्ली, या शायद दूसरे स्थानों में भी कहीं संगत ढंग से विकासोन्मुख निर्माण हो सकता था. साथ ही, लगभग 80 अरब रुपए की धांधली के आरोप भी इस बीच सामने आ चुके हैं.

रिपोर्ट: एजेंसियां/उभ

संपादन: ए कुमार

DW.COM

WWW-Links