1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

सबसे बड़े हिंदी राज्य में अंग्रेजी देवी का मंदिर

हिंदी बोलने वालों के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में अंग्रेजी देवी का मंदिर बनाया जा रहा है. लखीमपुर खीरी जिले के बांगा गांव में दलितों को अंग्रेजी सीखने के लिए प्रेरणा देने के मकसद से मंदिर बन रहा है.

default

कंप्यूटर बनेगा देवी

काले पत्थरों से बन रहे मंदिर की एक मंजिला इमारत के भीतर गाउन और हैट पहनकर एक कंप्यूटर बैठा होगा. कंप्यूटर के एक हाथ में होगी कलम कॉपी और दूसरे हाथ में भारतीय संविधान. यही कंप्यूटर हैं अंग्रेजी देवी जिन्हें दलितों के भीतर चेतना जगाने के लिए बनाया जा रहा है. मंदिर की दीवारों पर फिजिक्स, कैमिस्ट्री और गणित के फॉर्मूले होंगे. साथ ही अंग्रेजी में लिखे महापुरुषों के संदेश भी.

अप्रैल में मंदिर बनाने का काम शुरू हुआ और नवंबर तक इसके पूरा कर लेने की योजना है. बांका और आसपास के इलाकों में बड़ी संख्या में दलित रहते हैं. मंदिर की योजना बनाने वाले चंद्रभान प्रसाद कहते हैं, "यह मंदिर दलितों को उस भाषा को सीखने के लिए प्रेरणा देगा जिसे सीखना आज विकास के लिए जरूरी हो गया है. पिछले 20 सालों में हालत यह हो गई है कि बिना अंग्रेजी जाने कोई अच्छी नौकरी नहीं मिलती." मंदिर दलित एजुकेशन सेंटर के परिसर में बनाया गया है जिसकी देखरेख का जिम्मा एक ट्रस्ट को सौंपा गया है.

सदियां बीत गईं लेकिन दलितों की हालत में कोई बहुत बड़ा बदलाव नहीं आया. जाति आधारित व्यवस्था में निचले पायदान पर खड़े और कभी अछूत समझे जाने वाले दलितों को अंग्रेजी सिखा कर उनके हालात में सुधार करने की तैयारी है. इंसानों की कोशिश रंग नहीं ला रही है इसलिए भगवान का सहारा लेकर यह काम किया जाएगा. दलितों को समझाने के लिए अब अंग्रेजी देवी का मंदिर बनाया जा रहा है.

एक अनुमान के मुताबिक भारत में 35 करोड़ से ज्यादा लोग अंग्रेजी बोलते हैं. खासतौर से समाज का उच्चवर्ग इसे पूरी तरह से अपना चुका है. भारत में अंग्रेजी को अच्छी नौकरी और अच्छी जीवन शैली हासिल करने का जरिया माना जाता है.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः ए कुमार

DW.COM

WWW-Links