1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

सबसे बड़ा चार पंखों वाला डायनासोर

12.5 करोड़ साल पहले चीन में चार पंखों वाले डायनासोर भी थे. वैज्ञानिकों को पहली बार इनका इतना बड़ा जीवाश्म मिला है. इसकी मदद से पंछियों के क्रमिक विकास को समझने में मदद मिलेगी.

पूर्वोत्तर चीन के लिआओनिंग में मिले इस जीवाश्म को देखकर वैज्ञानिक हैरान हैं. चार पंखों वाले इस डायनासोर को चांगग्युरैप्टर यांगी नाम दिया गया है. इसकी 30 सेंटीमीटर की पूंछ भी पंख जैसी है. दोनों पैर भी पंखों जैसे ही हैं. इनके अलावा बाकी के दो पंख मौजूदा दौर के आम पंछियों की तरह हैं.

वैज्ञानिकों का दावा है कि चांग्युरैप्टर मांस खाने वाला जीव था. इसे पंछी नहीं बल्कि पंछी जैसा डायनासोर कहा जा रहा है. न्यू यॉर्क की स्टोनी ब्रुक यूनिवर्सिटी के जीवाश्म विज्ञानी एलन टर्नर के मुताबिक, अगर कोई इंसान चांग्युरैप्टर को देखेगा तो वो कहेगा कि "अरे, ये बड़ा अजीब तरह का पंछी है."

वैज्ञानिकों को लगता है कि पंछियों की उत्पत्ति छोटे डायनोसोरों से हुई. अब तक की खोज के आधार पर 15 करोड़ साल पहले कौवे के बराबर आकार का एक पंछी जैसा जीव मिलने के प्रमाण मिले हैं. उसे आर्कियोप्ट्रिक्स नाम दिया गया है. टर्नर कहते हैं, "चांगयुरैप्टर आर्कियोप्ट्रिक्स और दूसरे आदिम पंछियों से काफी मिलता है."

लॉस एजेंलिस के नेचुरल हिस्ट्री म्यूजियम के जीवाश्म विज्ञानी लुइस शियापे को लगता है कि चांग्युरैप्टर छोटे उड़ते जीवों, सरीसृपों और मछलियों को खाने वाला डायनासोर था, "आधुनिक पंछियों के उलट शायद चांग्युरैप्टर बहुत बढ़िया उड़ान नहीं भरता था." हो सकता है कि उस वक्त ऐसे जीव उड़ान भरना सीख रहे हों और क्रमिक विकास के साथ उन्होंने आकार बदलते हुए इसमें महारथ हासिल कर ली.

ओएसजे/एमजे (रॉयटर्स, एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री