1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

सबसे ज्यादा कमाने वाले खिलाड़ी

54 करोड़ रुपये की सालाना तनख्वाह, इंग्लैंड के फुटबॉल क्लब मैनचेस्टर सिटी के फुटबॉलरों की औसत तनख्वाह इतनी ही है. क्लब सबसे ज्यादा तनख्वाह देता है, लेकिन इतना पैसा फूंकने के बाद भी टीम औसत प्रदर्शन ही कर पाती है.

मैन-सिटी के फुटबॉल खिलाड़ियों की सालाना तनख्वाह 53.37 लाख पाउंड (54 करोड़ रुपये) है. वेतन के मामले में दुनिया भर की सभी टीमें इसके बाद आते हैं. रिपोर्ट ब्रिटेन की स्पोर्टिंग इंटेलिजेंस वेबसाइट ने जारी की है. 2008 में मैन-सिटी को अबू धाबी यूनाइटेड ग्रुप में खरीदा. तब से इसे दुनिया का सबसे महंगा क्लब कहा जाता है.

वैसे क्लब फुटबॉल में रियाल मैड्रिड, बार्सिलोना और बायर्न म्यूनिख का नाम ही ज्यादा चर्चा में रहता है. शानदार प्रदर्शन करने वाले इन क्लबों के पास कुछ बेशकीमती बेहतरीन खिलाड़ी भी हैं. लेकिन स्पोर्टिंग इंटेलिजेंस की रिपोर्ट से पता चलता है कि कुल तनख्वाह के मामले में मैन-सिटी इनसे आगे हैं. हालांकि मोटी तनख्वाह के बावजूद टीम टीम सिर्फ एक बार 2012 में इंग्लिश प्रीमियर लीग जीत सकी है. चैंपियंस लीग जैसे बड़े यूरोपीय मुकाबलों तो उसके बस से बाहर दिखाई पड़ते हैं.

अपने खिलाड़ियों को ज्यादा तनख्वाह देने अमेरिकी बेसबॉल लीग की टीम न्यू यॉर्क यांकीज दूसरे स्थान पर है. क्लब की औसत तनख्वाह 52.8 लाख पाउंड है. औसत वेतन के हिसाब से दुनिया के सभी खेलों की टॉप 10 टीमें इस प्रकार हैं;

1. मैन यू (इंग्लिश प्रीमियर लीग) 53.37 लाख पाउंड प्रतिवर्ष

2. न्यू यॉर्क यांकी (मेजर लीग बेसबॉल) 52.86 लाख पाउंड

3. एलए डॉडगर्स (मेजर लीग बेसबॉल) 51.19 लाख पाउंड

4. रियाल मैड्रिड (ला लीगा) 49.93 लाख पाउंड

5. बार्सिलोना (ला लीगा) 49.01 लाख पाउंड

6. ब्रुकलिन नेट्स (एनबीए) 44.85 लाख पाउंड

7. बायर्न म्यूनिख (बुंडेसलीगा) 44.02 लाख पाउंड

8. मैनेचेस्टर यूनाइटेड (इंग्लिश प्रीमियर लीग) 43.22 लाख पाउंड

9. शिकागो बुल्स (एनबीए) 39.85 लाख पाउंड

10. चेल्सी (इंग्लिश प्रीमियर लीग) 39.84 लाख पाउंड

तनख्वाह की यह जानकारी सामने आने के बाद मैनचेस्टर सिटी को यूरोपीय फुटबॉल संघ यूएएफा की सजा का सामना करना पड़ सकता है. यूएएफा के फेयर प्ले रूल्स के मुताबिक क्लब कमाई से ज्यादा पैसा खर्च नहीं कर सकते. रिपोर्टों के मुताबिक मैन-सिटी ने इस नियम को तोड़ा है.

ओएसजे/एमजे (एएफपी)