1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

सदमे में मिषाएल शूमाखर के फैन

रेसिंग ट्रैक पर कई बार मौत को चकमा देने वाले मिषाएल शूमाखर अब अस्पताल के बिस्तर पर पड़े हुए हैं. शूमाखर के फैंस उनके जल्द स्वस्थ होने की दुआ कर रहे हैं.

जर्मनी के पश्चिम में स्थित कैर्पेन शहर मिषाएल शूमाखर की नाजुक हालत की खबर सुनकर सदमे में है. रविवार को शूमाखर स्की करते हुए गिर गए और उनका सिर पत्थर से जा टकराया. फॉर्मूला वन के सात बार चैंपियन रहे 44 वर्षीय शूमाखर अब फ्रांस की अस्पताल में मौत से जंग लड़ रहे हैं. डॉक्टरों के मुताबिक उनकी हालत बेहद नाजुक है. कैर्पेन की निवासी क्लाउडिया अखावन कहती हैं, "यह हम सब के लिए भयावह है. लेकिन खासकर के उनकी पत्नी कोरिना और दो बच्चों के लिए ज्यादा दुखद है. हम सब आशा करते हैं कि वे जल्द ही स्वस्थ हो जाएंगे.''

शूमाखर के साथ परिवार

शूमाखर के बेहद नजदीकी बताने वाले एक शख्स के मुताबिक, ''फॉर्मूला वन में वे करीब 20 साल तक कार चलाते रहे और उनको कभी गंभीर चोट नहीं लगी लेकिन देखिए स्की करते हुए उन्हें क्या हो गया.'' यह शख्स अपना नाम जाहिर नहीं करना चाहता, वह कहता है शूमाखर की खबर सुनकर उसे बहुत दुख हुआ और फ्रांस से आने वाली खबरों पर उसे विश्वास नहीं हुआ.

Michael Schumacher Ski-Unfall Klinikleiter Grenoble

ग्रेनोबेल अस्पताल के बाहर शूमाखर की हालत जानते मीडियाकर्मी

शूमाखर को फिलहाल कृत्रिम कोमा में रखा गया है. उनके सिर पर गंभीर चोटें हैं. हादसे के तुरंत बाद उन्हें हेलीकॉप्टर की मदद से मुटियर्स के अस्पताल ले जाया गया उसके बाद उन्हें ग्रेनोबेल स्थित अस्पताल में दाखिल कराया गया. शूमाखर को जर्मनी में लोग प्यार से शूमी भी बुलाते हैं. इस कठिन समय में उनके साथ पत्नी कोरिना, 16 साल की बेटी जीना-मारिया और 14 वर्षीय बेटे मिक अस्पताल में ही मौजूद हैं.

लौटेंगे शूमाखर

कैर्पेन में मिषाएल शूमाखर फैंस क्लब के चेयरमैन मिषाएल वीमन को पूरा भरोसा है कि उनका हीरो सकुशल लौटेगा. वीमन के मुताबिक, "वह योद्धा हैं, वह जरूर वापस आएंगे. उम्र के हिसाब से वे फिट और महत्वाकांक्षी हैं, वे इससे ऊबर आएंगे.'' वीमन बताते हैं कि उनके पास शूमाखर के चाहने वालों के अनेक संदेश आ रहे हैं, "लोगों पर इस खबर का बहुत गहरा प्रभाव हुआ है. कुछ लोगों ने मुझे लिखा है कि शूमी के बिना जिंदगी अधूरी है."

वीमन के मुताबिक फैंस क्लब के कुछ फ्रेंच सदस्य ग्रेनोबेल में उस अस्पताल के बाहर जमा हैं जहां शूमी का इलाज चल रहा है. वीमन कहते हैं, "शूमी कई बार दुर्घटनाओं में घायल हुए लेकिन ईश्वर की इच्छा से वे बच गए. मुझे पक्का विश्वास है कि ईश्वर के फरिश्ते आल्प की पहाड़ियों पर शूमी को देख रहे होंगे.''

ग्रेनोबेल यूनिवर्सिटी अस्पताल के डिप्टी डायरेक्टर मार्क पेनो के मुताबिक शूमाखर के परिवार को ही उनसे मिलने की इजाजत दी गई है. पेनो के मुताबिक, ''सिर्फ शूमाखर के परिवार के सदस्यों को ही उन्हें देखने और पास रहने की इजाजत दी गई है.'' अगले कुछ घंटे शूमाखर के लिए बेहद अहम हैं. डॉक्टरों के मुताबिक अभी यह कह पाना मुश्किल है कि नतीजे क्या होंगे.

एए/एमजे (डीपीए)

DW.COM