1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

सचिन-37 वां जन्मदिन, ज़मीन से जुड़ा सितारा

शनिवार को सचिन तेंदुलकर 37 साल के हो गए हैं. एक धमाकेदार बल्लेबाज़ जिनके लिए बढ़ती उम्र एक आंकड़े और बहुत सारे अनुभवों के अलावा कुछ नहीं. बढ़ती उम्र के साथ उनके खेल की ख़ूबसूरती भई बढ़ती ही जा रही है.

default

शुक्रवार को आईपीएल समारोह सचिन के लिए जन्मदिन का परफेक्ट तोहफ़ा रहा. जब उन्हें सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज़ और कप्तान के तौर पर नवाज़ा गय़ा. हालांकि उनके सामने फ़िलहाल एक और चुनौती है रविवार को होने वाले फ़ाइनल में मुंबई इंडियन्स के लिए आईपीएल का ख़िताब जीतना. आईपीएल के 14 मैचों में सचिन ने 570 रन बनाए जिनमें पांच अर्धशतक थे.

हालांकि रविवार को होने वाले मैच में सचिन के सामने सबसे बड़ी चुनौती है उनके सीधे हाथ की अंगुली के टांके. फैन्स को उम्मीद है कि वे रविवार तक फिट हो जाएंगे और अपने बल्ले का जादू एक बार फिर दिखाएंगे.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया से बातचीत में स्पिनर गेंदबाज़ हरभजन ने सचिन को जन्मदिन की बधाई देते हुए कहा, "प्राजी के लिए ये तो बस एक नंबर है. पिछले छह महीनों में आप उनके प्रदर्शन को देखें, जिस तरह वे खेल रहे हैं अविश्वसनीय है. रनों के लिए उनकी भूख बढ़ती ही जा रही है और उनका प्रदर्शन लगातार अच्छा है. वे खेल का आनंद ले रहे हैं. ये कहना कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी कि उन्होंने हर युवा खिलाड़ी को पीछे छोड़ दिया है. मेरे लिए सचिन अब भी 17 साल के हैं. और मैं चाहता हूं कि वे जितना ज़्यादा समय खेल सकें, खेलें."

तेंदुलकर शानदार फ़ॉर्म में हैं. जब भी वे खेलते हैं लोग सोचते रह जाते हैं कि वो क्या है जो सचिन को मैदान पर शानदार प्रदर्शन करने की प्रेरणा देता है और लगातार 20 साल के क्रिकेट के मैदान पर बनाए रखे है.

सबसे अच्छी बात तो यह है कि 20 साल के उनके कैरियर में एक भी स्कैंडल की हवा उन्हें छू नहीं गई है. आसमान पर बैठे क्रिकेट के इस सितारे के पैर हमेशा ज़मीन पर ही रहे हैं. लोग उनकी तारीफ़ में कसीदे काढ़ते थकते नहीं और थके भी कैसे उनके कैरियर में एक से एक शानदार पहलू हैं. 20 साल के करियर में सचिन ने क्या तो 20-20, क्या टेस्ट, और क्या वनडे सभी में शानदार प्रदर्शन किया है. जिस तरह भारतीय सिनेमा में लता मंगेशकर की बादशाहत रही है सचिन की वर्ल्ड क्रिकेट में बादशाहत है.

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा मोंढे

संपादनः एम गोपालकृष्णन

DW.COM