1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

सचिन बने क्रिकेट वर्ल्ड कप के एम्बेसडर

क्रिकेट के इतिहास में ऐसा दूसरी बार होने जा रहा है जब कोई खिलाड़ी छठी बार वर्ल्ड कप में हिस्सा लेगा. सचिन के साथ इस मौके को सेलिब्रेट करने के लिए आईसीसी ने उन्हें वर्ल्ड कप का आधिकारिक एम्बेसडर बनाने का फैसला किया है.

default

आईसीसी एम्बेसडर

दुनिया के तीसरे सबसे बड़े खेल आयोजन क्रिकेट वर्ल्ड कप के प्रचार और प्रसार के लिए होने वाले कई कार्यक्रमों में सचिन हिस्सा लेंगे. अगला क्रिकेट वर्ल्ड कप 2011 में 19 फरवरी से 2 अप्रैल के बीच भारत, श्रीलंका और बांग्लादेश की संयुक्त मेजबानी में होना है. आईसीसी से एम्बेसडर बनने का निमंत्रण मिलने के बाद तेंदुलकर ने कहा, "अब सिर्फ 100 दिन बचे हैं और मैं छठी बार क्रिकेट वर्ल्ड कप में खेलने का इंतजार कर रहा हूं." तेंदुलकर के अलावा पाकिस्तानी क्रिकेटर जावेद मियांदाद इकलौते ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने छह वर्ल्ड कप खेले हैं.

Javed Miandad

मियांदाद

तेंदुलकर ने कहा कि तय ओवरों के मैच में आईसीसी का वर्ल्ड कप सबसे शानदार मुकाबला है जहां आप खेलते हैं. इसलिए ये सचिन को हमेशा से रोमांचित करता है. सचिन का कहना है, "इस बार के वर्ल्ड कप का भारतीय उपमहाद्वीप में होना उनके लिए इसे और ज्यादा ख़ास बना रहा है. मेरी बड़ी ख्वाहिश है कि हम लोग बहुत अच्छा खेलें. एक टीम के रूप में हम वो सब कुछ करना चाहते हैं जिससे कि अपनी जमीन पर हो रहे वर्ल्ड कप को जीत सकें."

आईसीसी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हारून लोगार्ट का कहना है कि गवर्निंग बॉडी को इस बात पर गर्व है कि सचिन जैसा खिलाड़ी खेल आयोजन से जुड़ रहा है. लोगार्ट का कहना है, " मुझे नहीं लगता कि किसी और खिलाड़ी ने किसी देश को इतनी प्रेरणा दी हो. सचिन को मिला प्यार और सम्मान सरहदों के पार चला गया है. दुनिया भर के एथलीट और दूसरे खेलों को पसंद करने वाले लोग सचिन की कामयाबी और क्रिकेट में उनके योगदान का सम्मान करते हैं."

दो दशक पुराने करियर में तेंदुलकर ने अपने लाखों क्रिकेट प्रेमियों को अपनी काबिलियत, स्वभाव और क्रिकेट को दिए प्यार से प्रभावित किया है. 1989 में महज 16 साल की उम्र में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पांव रखने वाले सचिन ने 172 टेस्ट मैचों में 14,292 रन और 442 वन डे मैचों में 17,598 रन बनाए हैं. गिनती अभी जारी है...

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः महेश झा

DW.COM

WWW-Links