1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

सचिन ने मानव श्रेष्ठता की मिसाल रखीः पाक अखबार

सचिन तेंदुलकर के 50वें टेस्ट शतक को सिर्फ क्रिकेट तक सीमित रखना बेमानी होगा. दरअसल सचिन ने तो मानव श्रेष्ठता की नई मिसाल कायम कर दी है. पाकिस्तान के एक प्रतिष्ठित अखबार ने अपने संपादकीय में यह बात लिखी है.

default

हर तरफ तेरा जलवा

सचिन की कला और उनके बेमिसाल प्रदर्शन पर द डॉन ने अपने खास संपादकीय में लिखा है कि ऐसी पारी के बाद सचिन तेंदुलकर को सिर्फ क्रिकेट की दुनिया तक सीमित रखना ठीक नहीं होगा.

संपादकीय में लिखा गया है, "उस खिलाड़ी के लिए यह ठीक नहीं होगा कि उसकी इस उपलब्धि को सिर्फ खेल के नजरिए से देखा जाए. उनकी इस उपलब्धि को दूसरे क्षेत्रों की उपलब्धियों की तरह देखा जाना चाहिए, जैसे विज्ञान, कला, साहित्य इत्यादि. यह मानव श्रेष्ठता की एक मिसाल है."

Pakistan Wahlen Zeitungsstand in Rawalpindi

पाकिस्तानी अखबार ने की तारीफ

अखबार ने लिखा है, "यह उपलब्धि बताता है कि यह खिलाड़ी बदलते वक्त के साथ किस तरह खुद को ढालता है. यह कोई ताज्जुब की बात नहीं कि वह दो दशकों तक क्रिकेट खेलने में सफल रहा. और सच तो यह है कि इस दौरान उसने क्रिकेट की दुनिया पर राज किया."

अखबार इस बहस में नहीं गया कि सचिन तेंदुलकर और डॉन ब्रैडमैन में बड़ा कौन है लेकिन इसने इतना जरूर कहा है कि सचिन आज के युग के ब्रैडमैन हैं. अखबार ने लिखा है, "जब वह अपने करियर के आधे सफर में था, तभी लोग उसकी तुलना सर डोनाल्ड ब्रैडमैन से करने लगे, जो निश्चित तौर पर क्रिकेट के सबसे महान खिलाड़ियों में एक हैं."

संपादकीय के मुताबिक, "तेंदुलकर ने खुद को आज के युग के ब्रैडमैन के तौर पर स्थापित कर दिया है. उसकी झोली में जितने रिकॉर्ड हैं, वह इस बात को साबित करते हैं. उसे किसी और को कुछ साबित करने की जरूरत नहीं है. क्रिकेट की दुनिया के लिए यह सौभाग्य की बात है कि उसने सचिन तेंदुलकर को खेलते हुए देखा है. उसकी कला को निहारा है."

रिपोर्टः पीटीआई/ए जमाल

संपादनः एस गौड़

DW.COM

WWW-Links