1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

सऊदी अरब दौरा : मानवाधिकारों और यमन युद्ध पर मैर्केल ने की चर्चा

जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल ने सऊदी अरब की अपनी यात्रा में किंग सलमान और उनके उत्तराधिकारियों से मुलाकात की. इस दौरान मैर्केल ने महिला अधिकारों, यमन में छिड़े युद्ध समेत कई संवेदनशील मसलों पर बातचीत की.

सात साल बाद जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल फिर सऊदी अरब यात्रा पर गयीं. पत्रकारों से बातचीत में मैर्केल ने बताया कि उन्होंने इस दौरान मानवाधिकार, यमन युद्ध और महिला अधिकारों पर बात की. तकरीबन दो साल से सऊदी अरब यमन विद्रोहियों पर बमबारी कर रहा है जो शिया बहुल ईरान के साथ हैं. इस संघर्ष के चलते यमन अकाल की कगार पर पहुंच गया है और आज यमन के करीब 27 लाख लोगों को मानवीय व सुरक्षा सहायता की आवश्यकता है. मैर्केल ने कहा, "इस मसले का कोई सैन्य समाधान नहीं निकल सकता और सऊदी अरब को इस ओर सोचना होगा".

सीरिया में भी सऊदी अरब और ईरान एक-दूसरे के खिलाफ हैं और जर्मनी उन छह अंतरराष्ट्रीय शक्तियों में से एक है जो ईरान के साथ परमाणु समझौते में शामिल है. हालांकि इस समझौते का सऊदी अरब विरोध करता रहा है. सऊदी अरब की ओर से मैर्केल की इस यात्रा पर कोई टिप्पणी नहीं की गयी है.चांसलर मैर्केल का सऊदी अरब दौरा

इस दौरान मैर्केल ने क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन नायफ और डिप्टी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान से भी मुलाकात की. नायफ के पास आतंकवाद और सुरक्षा मंत्रालय हैं. वहीं मोहम्मद बिन सलमान के पास देश का रक्षा और आर्थिक मंत्रालय है. मैर्केल ने इस मुलाकात में सऊदी अरब में दिये जाने वाले मृत्युदंड पर भी चर्चा की. मौत की सजा देने वाले देशों में सऊदी अरब प्रमुख है. यहां गैर-घातक अपराध मसलन ड्रग्स की तस्करी तक के लिये मौत की सजा दी जा सकती है. मैर्केल ने सऊदी ब्लॉगर को दी गई सजा पर भी सवाल उठाये.

अपनी दो दिन की यात्रा में मैर्केल ने सऊदी कारोबारियों से भी मुलाकात की और महिलाओं की बदलती स्थिति का जिक्र किया. उन्होंने साल 2010 में अपनी पिछली यात्रा से तुलना करते हुये साल 2015 में स्थानीय चुनावों में महिलाओं की ऐतिहासिक भागीदारी की तारीफ की. उन्होंने कहा कि अब भी यहां महिलाओं पर कई प्रकार के प्रतिबंध हैं. मैर्केल ने इस दौरान सऊदी परंपरा के अनुसार ना तो अपने बालों को ढका और न ही वहां का पारंपरिक बुर्का पहना. 

आधिकारिक सऊदी मीडिया की ओर से मिली जानकारी मुताबिक दोनो पक्षों ने तकनीक, ऊर्जा और कारोबार के क्षेत्र में कई समझौतों पर हस्ताक्षर किये. मैर्केल ने कहा, "मध्यपूर्व में सऊदी की अहम स्थिति को ध्यान में रखते हुये जर्मनी सऊदी पुलिस, सुरक्षा बलों और सीमा प्रहरियों को ट्रेनिंग देना जारी रखेगा".

एए/आरपी (एपी) 

DW.COM

संबंधित सामग्री