1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

संसदीय चुनाव के लिए ऑस्ट्रेलिया में मतदान शुरू

संसदीय चुनाव के लिए ऑस्ट्रेलिया में मतदान चल रहा है. मतदान पूर्व सर्वेक्षण के मुताबिक मुकाबला कांटे का. त्रिशंकु संसद की संभावना. जूलिया गिलार्ड की लेबर पार्टी और टोनी एबॉट की रुढ़ीवादी पार्टी चुनावों में आमने सामने.

default

कांटे की टक्कर

उम्मीद की जा रही है कि जीत का अंतर बहुत कम वोटों का होगा क्योंकि दोनों प्रतिद्वंद्वियों में कांटे की टक्कर है. एग्जिट पोल्स संकेत दे रहे हैं कि पासा पलट सकता है और टोनी एबॉट के नेतृत्व वाली रुढ़ीवादी पार्टी को चुनावों में बढ़त मिल सकती है. चुनाव के पहले हुए ताज़ा सर्वे बताते हैं कि दोनों के बीच बहुत कड़ी टक्कर है. इस बार चुनाव प्रचार के दौरान देश के आंतरिक मामले छाए रहे.

Tony Abbott Australien Wahl

टोनी एबॉट

दोनों पार्टियों की विदेश नीति पर राय लगभग एक जैसी ही है. एक करोड़ 40 लाख वोटरों में से दस फीसदी ने अपना मत नीतियों के आधार पर नहीं बल्कि व्यक्तित्व के आधार पर देने का फैसला किया है.

दो महीने पहले केविन रड की कुर्सी छीनने के बाद 48 साल की जूलिया गिलार्ड ऑस्ट्रेलिया की प्रधानमंत्री बनी हैं. देश की अर्थव्यवस्था को मंदी से बाहर रखने के कारण उनकी पार्टी को मजबूती मिली है लेकिन केविन रड को इस तरह के हटाने के कारण उनकी आलोचना भी हो रही है.

गिलार्ड ने मतदान शुरू होने के पहले कहा, "हम ओपिनियन पोल्स के बारे जानते हैं कि एबॉट रविवार को प्रधानमंत्री बन सकते हैं." अबॉट का व्यक्तित्व तो आकर्षक है लेकिन पादरी की ट्रेनिंग में खरे नहीं उतर पाए. लेकिन चुनाव प्रचार के दौरान उन्होंने अनुशासित और परिष्कृत प्रचार कर के सबको चौंका दिया. उनका मंत्र है बजट को घाटे से बाहर लाना, इंडोनेशिया से आने वाले मध्यपूर्व के शरणार्थी के लिए आवेदन करने वालों को रोकना.

एबॉट जॉन हॉवर्ड की सरकार में मंत्री रहे हैं. 52 साल के एबॉट फिटनेस के दीवाने हैं और खुद को आधुनिकरण करने वाले की छवि में पेश करते हैं. 150 सीटों वाली संसद में एबॉट को 17 सीटें लेबर से हथियानी होंगी तभी वे ज़रूरी 76 सीटें पा सकेंगे. "मैं कहना चाहता हूं कि हम अच्छा काम करेंगे. कर्ज चुकाएंगे, नए टैक्स भी रोकेंगे."

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा एम

संपादनः एस गौड़

DW.COM